You are here

पत्रकार,पुलिस और व्यापारी चलाते थे हाई प्रोफाइल सेक्स रैकेट

राजस्थान पुलिस ने पत्रकार,पुलिसकर्मी और व्यापारी के संचालन में चल रहे एक हाई प्रोफाइल सेक्स रैकेट का पर्दाफाश किया है, । करोड़ों रुपये का अवैध कारोबार करने वाले इस रैकेट में कुछ नेताओं के जुड़े होने की भी बात सामने आई है। यह गिरोह जाल में फशा कर अमीर लोगों को ब्लैकमेल कर करोड़ों रुपये की वसूली कर चुका है।
स्थानीय पुलिस ने रैकेट के एक संचालक और सहयोगी एक युवती को गिरफ्तार कर लिया है। गिरोह में शामिल माउंट आबू पुलिस थाने का थाना अधिकारी और एक व्यापारी पुलिस की छापेमारी से पहले ही फरार हो गए। पकड़े गए आरोपियों की निशानदेही पर पुलिस ने जोधपुर से दो पत्रकारों को भी पूछताछ के लिए हिरासत में लिया है। ये पत्रकार स्थानीय समाचार पत्रों से जुड़े हुए हैं।राजस्थान के एक बड़े कारोबारी ने ब्लैकमेलिंग की शिकायत दर्ज कराई थी।वह माउंट आबू में होटल का संचालन करता है। कारोबारी ने पुलिस के वरिष्ठ अधिकारियों को दी गई शिकायत में बताया था कि माउंट आबू पुलिस स्टेशन में करोड़ों रुपये की ब्लैकमेलिंग का धंधा किया जा रहा है। जांच में शिकायत सही पाई गई। इसके बाद पुलिस ने कार्रवाई की। इस रैकेट में थाने के एसएचओ रामचंद्र सिंह राठौड़, पत्रकार मोइनुल हक, व्यवसाई गोपाल सिंह ढेलाणा, चालक गोविंदराम मेघवाल, शिवानी और गोविंद सिंह नामक लोग शामिल हैं।
पुलिस महानिरीक्षक के मुताबिक, प्राथमिक जांच में होटल व्यवसाई को ब्लैकमेल किए जाने की पुष्टि हुई थी। इसके बाद सिरोही और जोधपुर की संयुक्त टीम गठित की गई। पत्रकार मोइनुल हक और शिवानी राजस्थान, गुजरात और मुंबई के सेठों और व्यवसायियों से इंटरव्यू के बहाने पहले मुलाकात करते थे। फिर शिवानी उन्हें अपने जाल में फंसा लेती थी।जाल में फंसे लोगों को जोधपुर, माउंट आबू या पाली में बुलाया जाता था। वहां होटल में कमरा बुक किया जाता था। फिर जैसे ही कोई सेठ या कारोबारी रात गुजार लेता था, सुबह होने से पहले ही थाना अधिकारी रामचन्द्र सिंह होटल के कमरे में पहुंच जाता था। उसके बाद उस कारोबारी या सेठ को धमकाकर शुरू होती थी सौदेबाजी और ब्लैकमेलिंग।इस हाईप्रोफाइल सेक्स रैकेट में कई लड़कियां शामिल थीं। पुलिस को पता चला कि मोइनुल हक अपना एक अखबार चलाता था। इस मामले में शिकायत करने वाला माउंट आबू का बड़ा होटल कारोबारी इनके जाल में फंस गया था। आरोपी उससे तीन करोड़ रुपये की मांग कर रहे थे।
कारोबारी उन्हें अब तक 67 लाख रुपये दे चुका था। लेकिन दोनों पत्रकार और एसएचओ अभी भी उससे 30 लाख रुपये मांग रहे थे। वे उसे पैसे के लिए तंग कर रहे थे। परेशान होकर होटल कारोबारी ने तत्कालीन आइजी रेंज जीएल शर्मा को मामले की शिकायत कर दी।

इसे भी पढ़े -