You are here

मुख्यमंत्री का ख्वाव देखने वाले सांसद बरुण गाँधी का सेक्स स्कैंडल

नई दिल्ली। भारतीय जनता पार्टी के नेताओ के चाल ,चरित्र और चेहरो का खुलाशा लगातार होता जा रहा है |कुछ दिनों पूर्व भाजपा के सांसद जगदम्बिका पाल का नाम सेक्स स्कैंडल में तो आया ही था वही मोदी कैबिनेट के मंत्री भी सेक्स रैकेट चलाने का आरोप दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाति मालीवाल ने लगाकर बीजेपी नेतओ के चाल चरित्र को बेनकाब किया था | सेक्स बहुत गन्दी चीज है, इसके बावजूद आज हम डेढ़ सौ करोड़ तक पहुँच गये है। बच्चों को सेक्स की शिक्षा देना चाहिए, तर्कपूर्ण सहमति है। लेकिन सेक्स की ताकत देखिये और उसका अंतर्विरोध, जब तक गोपनीय है, ग्राह्य है, परम आनंद की पराकाष्ठा है, उघर गया तो आपको समूल नष्ट कर देगा। जो समाज इस अंतर्द्वंद पर खड़ा है, उसकी भ्रूण हत्या तय है। एक वाक्या सुनिये। बाबू जगजीवन राम बहुत बड़ी शख्सियत थे, उनके बेटे सुरेश राम किसी होटल में अपनी महिला मित्र के साथ नग्न अवस्था में देखे गए थे उस वक्त मेनका गांधी के संपादन में छपने वाली सूर्या मैगजीन में बाबू जगजीवन राम के बेटे सुरेश राम का कथित ‘सैक्स स्कैंडल’ छापा गया। मैगजीन के दो पन्नों में सुरेश राम और दिल्ली विश्वविद्यालय की छात्रा के अंतरंग पलों को बिना सेंसर किये हुए छापा गया था। खास बात यह है कि सुरेश राम अपने पिता की तरह राजनीति में नहीं थे।

jagjivn-ram

इस खबर का नकारात्मक असर तब के रक्षा मंत्री और दलित नेता बाबू जगजीवन राम पर पड़ा |इस  खबर का उद्दयेश  सिर्फ तत्कालीन रक्षामंत्री और उस समय देश से सबसे बड़े दलित नेता जगजीवन राम को बदनाम करने की साजिश थी।उसकी तस्वीर निकाली गई और सारे संपादकों के पास प्रकाशनार्थ भेज भी दिया गया लेकिन किसी ने भी नही छापा। सिवाय एक महिला संपादक के। पत्रिका का नाम था सुर्या और संपादक थी आज की भाजपा मंत्री मेनका गांधी।

प्रधानमंत्री के कैबिनेट साथी पर जिस्म फरोशी का आरोप

 

आज इतिहास फिर पलटा खाया है और उसी महिला सम्पादक मेनका के सुपुत्र वरुण गांधी उसी तरह लपेटे में आये हैं जैसे सुरेश राम आये थे। फोटो कौन बाँट रहा है यह तो अँधेरे में है लेकिन इतना तो तय है कि इतिहास आपने आप को दोहरा रहा है वो भी अजब -गजब तरीके से।

इतना ही नही आज वरुण पर आरोप लग रहा है कि वरुण इस फोटो के बदले देश की सारी गुप्त बातें आर्म्स डीलर को देते रहे  यानी वरुण देश द्रोही हैं। प्रधानमंत्री कार्यालय के पास इसका पुख्ता सबूत भी है ।

इसे भी पढ़े -