You are here

शिवराज सरकार : कर्ज़ में डूबे किसान ने खुद को लगाई आग, सूदखोर से था परेशान

नई दिल्ली . मध्य प्रदेश में किसानो की हत्या के बाद आगे बढ़े आन्दोलन पर ग्रहण तो लग गया किन्तु किसानो की दशा और दिशा तस की जस बनी है ,किसान आत्महत्या कर अपनी इह लीला समाप्त कर रहा है .

योगी राज : सुमित पटेल को गोली मारने वाले ठाकुरों की बजाय 8 पीड़ित कुर्मी पहुचे जेल

ताजा मामला होशंगाबाद जिले से है जहा सूदखोरों से परेशान एक लाचार किसान ने खुद पर कैरोसिन डालकर आग लगा ली. उसकी गंभीर हालत को देखते हुए उसे भोपाल के हमीदिया अस्पताल रेफर किया गया है.


स्थानीय पुलिस के मुताबिक रंढाल गांव के रहने वाले किसान बाबूलाल (40) ने शुक्रवार की सुबह अपने ऊपर कैरोसिन डालकर आग लगा ली, जिससे वह बुरी तरह झुलस गया. इस मामले में जल्द कर्ज चुकाने के सूदखोरों के दबाव की बात सामने आ रही है .

मसाज कराई, फिल्म देखी और पुलिस को चकमा देकर फरार हो गई साध्वी जयश्री गिरी

बाबूलाल के परिजनों ने पुलिस को बताया कि उस पर पांच-छह लोगों का लगभग सात लाख रुपये का कर्ज था. सूदखोर बकाया रकम चुकाने के लिए उस पर लगातार दबाव बना रहे थे. बाबूलाल की पत्नी गुड्डी बाई ने पुलिस को बताया कि गुरुवार को दो सूदखोर आए थे. उन्होंने रकम चुकता न कर पाने के कारण उसे जलील किया था. गुरुवार की रात बाबूलाल बिना खाना खाए सो गया और सुबह उसने अपने ऊपर कैरोसिन डालकर आग लगा ली.

फिरहाल मध्यप्रदेश के किसान भुखमरी की कगार पर है ,कर्ज खोरो से परेशान बुरी तरह झुलसे बाबूलाल को पहले होशंगाबाद के जिला अस्पताल ले जाया गया, वहां से उसे भोपाल के हमीदिया अस्पताल भेज दिया गया.


सनद रहे बिगत बुधवार को भी एक किसान ने ज़हर खाकर आत्महत्या कर ली थी. बावई थाना क्षेत्र के चपलासर के नर्मदा प्रसाद यादव (50) कर्ज से परेशान होकर ज़हर खाकर जान दे दी. परिजनों के अनुसार नर्मदा पर किसी सूदखोर का 50 हजार रुपये का कर्ज था. इस कर्ज के लिए सूदखोर उस पर दबाव बना रहा था और रकम की एवज में नर्मदा से ट्रैक्टर अपने नाम कराने का सूदखोर ने लिखवा रखा था. नर्मदा से पहले यहीं के भैरोपुर गांव के किसान माखन लान मंगलवार को फांसी के फंदे पर झूल गया था.

(खबर कैसी लगी बताएं जरूर. आप हमें फेसबुक, ट्विटर और गूगल प्लस पर फॉलो भी कर सकते हैं.)




loading…


इसे भी पढ़े -

3 Thoughts to “शिवराज सरकार : कर्ज़ में डूबे किसान ने खुद को लगाई आग, सूदखोर से था परेशान”

Comments are closed.