You are here

चुनाव बाद विधायक करेंगे मुख्यमंत्री का चुनाव -मुलायम

लखनऊ. समाजवादी पार्टी  और परिवार में चल रहे गृह युद्ध पर विराम लगाने के लिए सपा सुप्रीमो मुलायम सिंह यादव ने आज पार्टी कार्यालय पर नया फार्मूला बताया। मुलायम ने कहा कि मुख्यमंत्री अखिलेश हैं उनकों लेकर किसी को आपत्ति नहीं है जबकि प्रदेश अध्यक्ष शिवपाल यादव को वापस मंत्रीमण्डल में लेने का निर्णय उन्होंने अखिलेश यादव पर छोड़ दिया साथ ही ये भी कह दिया कि शिवपाल ने मंत्रीपद वापस नहीं मांगा है, इसलिए मैंने भी नहीं कहा। जिससे साफ हो गया कि शिवपाल अब संगठन का ही काम देखेंगे।

पत्रकारों के सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि हमारी पार्टी लोकतांत्रिक है, इसमें मुख्यमंत्री का चयन चुनाव के बाद विधायक करते हैं। बर्खास्त मंत्रियों की वापसी के बारे में कहा कि इस पर फैसला मुख्यमंत्री को करना है। मुलायम का ये संदेश बाहर आते ही अखिलेश समर्थक सड़क पर आ गए। समाजवादी पार्टी मुख्यालय पर उन्होंने जमकर हो हल्ला किया। उनकी मांग थी कि बाद के लिए भी मुख्यमंत्री अखिलेश को ही घोषित किया जाए।

पहली बार देखने को मिला कि मुलायम सिंह यादव लिखित कागज पढ़ कर बोले ,दावा किया गया कि ये पत्र मुख्यमंत्री की सहमति से तैयार हुआ था। आते ही मुलायम ने कहा दो-तीन बातें आपके सामने रखना चाहता हूं. मैंने निरंतर संघर्ष किया है। जनता के हितों के लिए हमेशा काम करता रहा हूं. मैं शुरू से ही समाजवादी रास्ते पर चलता रहा हूं। उन्होंने कहा कि मैं अपनी पार्टी और सिद्धांतों के प्रति समर्पित हूं, हमारा परिवार और पार्टी एक है।

अमर के सवाल पर बोले कि अमर सिंह को बीच में क्यों लाते हो उन्होंने कहा कि अखिलेश यादव मुख्यमंत्री हैं उनके बारे में क्यों पूछते हो, मुख्यमंत्री अखिलेश यादव पर किसी को आपत्ति नहीं है। हमें यूपी की जनता पर पूरा विश्वास है। उन्होंने कहा कि साजिश करने वालों का आधार नहीं, साथ ही यह भी कहा कि रामगोपाल यादव की बात की कोई अहमियत नहीं है। मुलायम ने जोर देकर कहा कि पिछले विधानसभा चुनाव में मेरे नाम पर बहुमत आया था। अब दो तीन महीने के लिए सीएम बनने से क्या फायदा

इसे भी पढ़े -