You are here

पूर्व मंत्री गायत्री को बेल देने वाले जज को हाईकोर्ट ने किया निलंबित

लखनऊ समाजवादी पार्टी के संस्थापक पूर्व मुख्यमंत्री मुलायम सिंह यादव के अति करीबी पूर्व मंत्री एवं गैंगरेप के आरोपी गायत्री प्रजापति को जमानत देने वाले अपर जिला एवं सत्र न्यायाधीश को शुक्रवार को हाई कोर्ट की प्रशासनिक समिति ने निलंबित करते हुए विभागीय जांच के आदेश दिए हैं.

योगी राज : बहराइच में खुले आम घूम रहे पत्रकार की पुत्री के हत्यारे

मीडिया की खबरों के मुताबिक जस्टिस सुधीर अग्रवाल जमानत देने वाले अपर जिला एवं सत्र न्यायाधीश के खिलाफ जांच करेंगे. जस्टिस ओम प्रकाश मिश्रा के सारे अधिकार भी सीज कर दिए गए हैं.जस्टिस मिश्रा पास्को कोर्ट में तैनात हैं,जो 30 अप्रैल को रिटायर हो जाएंगे.

योगी राज : गोलीबाज अधिकारियों की मुश्किल बढ़ी

शुक्रवार को गायत्री प्रजापति को जमानत देने के फैसले के खिलाफ सरकार की याचिका पर सुनवाई के दौरान ही जस्टिस ओम प्रकाश मिश्रा के खिलाफ कार्रवाई के संकेत मिल गए थे. मुख्य न्यायाधीश डीबी भोंसले ने कोर्ट से उठते ही इस बाबत निर्देश जारी किया था.

प्रमुख सचिव गृह की जाँच इंस्पेक्टर के हाथ !

बता दें कि गैंगरेप के आरोपी गायत्री प्रजापति की जमानत पर विरोध जताते हुए हाई कोर्ट ने कहा था कि जिन स्थितियों में जमानत दी गई, वह घोर आपत्तिजनक है. जज ओमप्रकाश मिश्रा ने जमानत देते हुए कहा था कि अभियुक्तों के साथ सहवास में महिला की सहमति थी. उन्होंने कहा कि अगर 3 साल से दुष्कर्म हो रहा था तो कहीं शिकायत क्यों नहीं की.

फिरहाल रिटायरमेंट के २ दिन पूर्व ही अपर जिला एवं सत्र न्यायाधीश को निलंबित कर इनके बिरुद्ध जांच प्रारंभ हो गया है .

(खबर कैसी लगी बताएं जरूर. आप हमें फेसबुक, ट्विटर और गूगल प्लस पर फॉलो भी कर सकते हैं.)




loading…


इसे भी पढ़े -

Leave a Comment