You are here

बिहार : सुशील कुमार मोदी का भाई कैसे बना हजारों करोड़ का मालिक -मनोज कुमार झा

पटना : भाजपा नेता सुशील कुमार मोदी द्वारा लालू प्रसाद के परिवार पर लगाये गये घोटाले के आरोप का जवाब देने के लिए राजद ने पार्टी के नेताओं को मैदान में उतार दिया है. रविवार को राजद के राष्ट्रीय प्रवक्ता मनोज कुमार झा ने वरिष्ठ नेता जगदानंद व प्रदेश अध्यक्ष डाॅ रामचंद्र पूर्वे की उपस्थिति में भाजपा नेता सुशील कुमार मोदी के परिवार पर बेनामी संपत्ति रखने का आरोप लगाया. उन्होंने कहा कि सुशील कुमार मोदी के उपमुख्यमंत्री बनने के बाद 12 वर्षों में उनके परिवार के लोग हजारों करोड़ की संपत्ति के मालिक बन गये. मोदी के सगे भाई राजकुमार मोदी, उनके दो पुत्र, दो पुत्रवधू और चचेरे भाई महावीर मोदी ने कंपनियों का मकड़जाल बनाकर मनी लांड्रिंग का गोरखधंधा चलाया. एक जमाना था जब मोदी के पिता स्व मोती लाल मोदी एवं उनके भाइयों की पटना में रेडीमेड कपड़ों की खुदरा दुकान हुआ करती थी.

योगी राज : दलित महिला के साथ गैंगरेप कर हाथ-पैर काटा

राजद नेताओं का खुलासा

इन दुकानों को चलाकर ही उनके परिवार का जीवनयापन होता था. उन्होंने कहा कि मोदी खुलासे का खुलासा कर रहे हैं, जबकि, वह मोदी परिवार के बंद व बेनामी संपत्ति का खुलासा कर रहे हैं. कंपनी के नाम व नकाब के पीछे काम कर रहे बेनकाब का खुलासा कर रहे हैं. आखिर क्या कारण है कि जब-जब सुशील कुमार मोदी का राजनीतिक ग्राफ ऊपर बढ़ा उनके भाई की संपत्ति का ग्राफ भी बढ़ता चला गया. इसकी जांच होनी चाहिए. इसके लिए वह प्रधानमंत्री को पत्र लिख कर भी जांच की मांग करेंगे. मोदी इस प्रकार का आरोप लगाकर चंपारण सत्याग्रह समारोह की तरफ से ध्यान हटाना चाहते हैं. झा ने कहा कि सुशील कुमार मोदी जिस दिन सवाल करेंगे उसी दिन उसका जवाब दिया जायेगा. इसकी पहली किस्त जारी की गयी है.



सुशील मोदी पर बड़ा हमला

राजद प्रवक्ता झा ने कहा कि राजकुमार मोदी की फ्लैगशिप कंपनी आशियाना होम्स प्रा लि है. इस कंपनी की सात सब्सिडरी कंपनी, दो एसोसिएट्स कंपनी के अलावा राजकुमार मोदी और ललित कुमार छावछरिया की सैकड़ों शेल कंपनियां हैं, जिनका मुख्य उद्देश्य कालेधन को सफेद धन बनाना है. इन कंपनियों की अधिकतर परियोजनाएं दिल्ली के एनसीआर क्षेत्र और उत्तरी भारत में हैं, फिर भी तीन-चार कंपनियों को छोड़ सभी रजिस्टर्ड कंपनियों का रजिस्टर्ड ऑफिस पांच एफ एवरेस्ट 46,सी, चौरंगी रोड़, कोलकाता, पश्चिम बंगाल में है. इस पते पर करीब 200 कंपनियां रजिस्टर्ड हैं. आशियाना होम्स के निदेशक ललित कुमार छावछरिया को देश में शेल कंपनियां बनाकर मनी लांड्रिंग कराने का बेताज बादशाह माना जाता है. आशियाना होम्स का कम व अधिक समय का कुल लोन 400 करोड़ का है.


आगरा : हिन्दूवादी नेताओ ने थाने में दरोगा की सर्विस रिवॉल्वर छीना,सीओ को थप्पड मारा

करोड़ों के मालिक मोदी के भाई-राजद

जिस कंपनी पर कुल हानि एक करोड़ 32 लाख है, उसे 65 करोड़ का इक्विटी प्रीमियम कोई क्यों देगा. मोदी को यह बताना चाहिए कि उनके सगे भाई की कंपनी में 400 करोड़ के कर्ज की राशि क्या उनकी अपनी कालेधन की राशि है अथवा उनके सगे संबंधियों या जाति-बिरादरी के लोगों की है. उनको यह भी बताना चाहिए कि 400 करोड़ का लोन एक प्रतिशत के ब्याज पर कौन से बैंक एवं भारतीय बाजार से मिलता है.
उनको यह भी बताना चाहिए कि राजकुमार मोदी की कंपनी आशियाना होम्स में 84 करोड़ के शून्य ब्याज दर पर निवेश की गयी राशि किसकी है. उनको यह भी बताना चाहिए कि 87 करोड़ के सेक्योर्ड नन कनवर्टेबल डिवेंचर बिना ब्याज के कौन से मार्केट में जारी किये जाते हैं. उनके निवेशक कहां से मिलते हैं.

आभार -प्रभात खबर

(खबर कैसी लगी बताएं जरूर. आप हमें फेसबुक, ट्विटर और गूगल प्लस पर फॉलो भी कर सकते हैं.)




loading…


इसे भी पढ़े -

Leave a Comment