You are here

भाजपा विधायक या डाक्टर संजय प्रताप जायसवाल

लखनऊ. बस्ती के रुधौली से भाजपा विधायक एवं प्रत्याशी संजय प्रताप जायसवाल ने “न्यूज़ अटैक “पर प्रसारित आरोपो कि खबरों को लेकर बस्ती में इस बात का मुकदमा दर्ज करवाया है कि न्यूज अटैक ने झूठी और भ्रामक खबरे प्रसारित कर बलात्कार समेत अन्य मामलो में आरोपी इस माननीय का राजनैतिक और सामाजिक छवि धूमिल करने का प्रयाश किया है ,उत्तर प्रदेश की विधान सभा को सुशोभित करने वाले यह माननीय कितने चरित्रवान है देखिये इनके अतीत के कुकर्मो कि दास्ता …..

उत्तर प्रदेश की बिधान सभा को सुशोभित करने वाले माननीय विधायक संजय प्रताप जायसवाल ने सन २०१४ में लखनऊ में एक अबला की इज्जत पर हाथ डाला,मामला पुलिस से होता हुआ न्यायालय की चौखट तक पंहुचा और स्थानीय पुलिस से न्याय न मिलता देख पीड़िता ने मुख्यमंत्री को पत्र भेज सीबीआई जांच की माँग की पर पीड़िता का पत्र सीबीआई जांच की बाट जोह रहा है. हिंदी वेबदुनिया.काम के अनुसार हजरतगंज पुलिस ने अपनी रिपोर्ट में पीड़िता अंकिता (परिवर्तित नाम) से कथित दुष्कर्म के एक मामले में रुधौली बस्ती के कांग्रेस विधायक संजय प्रताप जायसवाल को क्लीन चिट देते हुए विधायक को सिर्फ आईपीसी 494/506 (पत्नी के जीवित रहते दूसरी महिला से विवाह) के आरोपों का दोषी माना है. हालांकि पीड़िता जांच से पूरी तरह असंतुष्ट है और उसने मुख्यामंत्री से पूरे मामले की जांच सीबीआई से कराने की मांग की है. आईपीसी 494/506 का मुकदमा अभी भी न्यायालय में विचाराधीन है. .

न्यायालय अपर मुख्य न्यायिक दंडाधिकारी के आदेश से हजरतगंज थाने में दर्ज मुकदमा अपराध संख्या 160/14 की अंतिम रिपोर्ट से नाराज पीड़िता अंकिता ने कांग्रेस विधायक संजय प्रताप जायसवाल व अन्य अभियुक्तगणों के विरुद्ध धारा 376, 120बी, 506 भारतीय दंड संहिता की विवेचना केंद्रीय ब्यूरो (सीबीआई) से कराए जाने की मांग प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव को पत्र लिखकर किया था .पीड़िता अंकिता आजमगढ़ की निवासी है. अंकिता ने कहा कि उसने धारा 376, 120 बी, 506 में मुकदमा दर्ज कराया था, परंतु स्थानीय पुलिस द्वारा केवल धारा 494 व 506 में ही आरोप पत्र दाखिल किया गया, जो कि बहुत ही अन्यायपूर्ण है.

अंकिता ने कहा कि कभी आजमगढ़ के पूर्व सांसद रमाकांत यादव से मेरे संबंधों की बात तो कभी मंत्री नारद राय द्वारा मेरे खिलाफ पुलिस शिकायत की अफवाहें विधायक संजय प्रताप जायसवाल द्वारा उड़ाई जा रही है, जो कि निराधार हैं.

अंकिता ने उस वक्त अपनी व्यथा विस्तार से बेबदुनिया संबाददाता को बताया था .अंकिता ने बताया कि वह पीसीएस की तैयारी हेतु अक्टूबर 2012 में लखनऊ में कोचिंग करने के लिए आई थी. जनवरी 2013 में जब वह अपने घर से दूसरी बार लखनऊ पहुंची तो चारबाग रेलवे स्टेशन पर संजय जायसवाल रूधौली बस्ती के कांग्रेस विधायक से मुलाकात हुई, जिसने अपना नाम डॉक्टर संजीव मिश्रा बताया और कहा कि वह लखनऊ में प्रैक्टिस करता है उस वक्त उनके साथ उसके दो दोस्त भी थे. अंकिता लखनऊ शहर में अजनबी थी और अपनी बीमारी से परेशान थी इसलिए संजय के मांगने पर अपना मोबाइल नंबर दे दिया, फिर विधायक ने डॉ. बनकर उससे बात करना शुरू कर दिया.

अंकिता द्वारा मना किए जाने के बाद भी संजय विधायक बार-बार फोन करता रहा. अंकिता ने 1090 पर शिकायत भी दर्ज कराई थी. विधायक द्वारा अंकिता को सचिवालय में जॉब दिलाने का आश्वासन दिया गया और 5 लाख रुपए, हाईस्कूल, इंटरमीडिएट, बीएससी की सर्टिफिकेट आय प्रमाण पत्र, निवास प्रमाण पत्र, जाति प्रमाण पत्र मांगा गया. अंकिता ने सारे कागज दे दिए.आरोप है कि अंकिता के भाई ने मुंबई से संजय के दोस्त के पीएनबी एकाउंट बस्ती 0587000100354728 में 13 फरवरी 2013 को 15 हजार रुपए डाले और अंकिता ने 75 हजार नकद और एक सोने की चेन दी.

विधायक ने निवास प्रमाण पत्र के जरिए प्रार्थिनी के ससुराल और मायके का बैकग्राउंड पता करवाया. अंकिता 1 जून 2013 को बनारस गई थी. 3 जून 2013 को बीएचयू में एलएलबी का इंट्रेंस एक्जाम था वहीं पर संजय का फोन आया कि तुम कहां हो अंकिता बोली बनारस, संजय ने कहा कि तुम्हारा सचिवालय का कागज आ गया है, आकर कागजों पर साइन कर दो.उन्होंने लारा होटल गौदोलिया, बनारस में बुलाया, अंकिता वहां गई. विधायक द्वारा खाना खाने की बात कही गई कि खाना खा लो तब साइन करो.अंकिता ने विधायक के कहे अनुसार खाना खाया.खाने में उन्होंने कोई नशीली चीज मिला दी थी और वहीं पर और वहीं पर बलात्कार किया . अंकिता ने बताया कि वह इनसे सितंबर में गर्भवती हो गई. उसने बताया कि गर्भपात नहीं करवाना चाहती थी तब विधायक द्वारा मुझे जबरदस्ती कैद करके गर्भपात करवाया गया. मैं अपनी मोबाइल बंद करके 15 दिन तक एक रूम से बाहर नहीं निकली तो संजय व उनके दोस्तों ने कोचिंग हॉस्टल में नहीं पाए तो मेरे घर गए.
मैंने संजय से पूछा कि आप मुझसे चाहते क्या हो तो संजय बोला कि मैं तुमसे शादी करना चाहता हूं. मैं बोली कि मैं शादीशुदा हूं. संजय बोला फिर भी करना पड़ेगा. अक्टूबर माह में शिव मंदिर में पूजा और सितंबर में विवाह अनुबंध पेपर पर साइन करवाया. इस तरह की जानकारी होने पर मेरे पति ने मुझे ठुकरा दिया.

संजय ने उसके बाद से अपने दोस्त के घर अपने सरकारी आवास और कई जगहों पर रखा. मुझे पता चला कि ये शादीशुदा है. 10 दिसंबर 2013 को संजय की पत्नी, सासू मां, साला, भाई, मां अन्य साथियों ने मुझे जान से मारने की कोशिश की. गाली-गलौज यहां तक कि मेरे कपड़े फट गए थे.

रिपोर्ट के बाद में मैं उसी दिन से कोतवाली का चक्कर लगातार लगाती रही, न्याय की भीख मांगती रही परंतु मेरी बात किसी अधिकारी ने नहीं सुनी. तब मैं मजबूर होकर न्यायालय के सामने पहुंची, जहां पर मेरे प्रार्थना पत्र पर मुख्य न्यायिक दंडाधिकारी द्वारा एफआईआर दर्ज करने का आदेश प्राप्त हुआ जिस पर आदेश का अनुपालन करते हुए थाना हजरतगंज लखनऊ में एफआईआर दर्ज हुआ. उसके बाद मेरा मेडिकल 161, 164 का बयान दर्ज हुआ.एफआईआर दर्ज होने के बाद से मैं लगातार अधिकारियों के सामने न्याय की प्रार्थना करती रही लिखित भी दी, परंतु कहीं पर कोई सुनवाई नहीं हुई. स्थानीय पुलिस एसएसपी प्रवीण कुमार और संजय की मिलीभगत के कारण विवेचना एकपक्षीय हुई है विवेचना की जांच निष्पक्ष नहीं की गई. अंकिता ने कहा कि विधायक और उसके परिवार द्वारा मेरे ऊपर अनर्गल आरोप लगाया जा रहा है, जो बेबुनियाद है. मैं और मेरा परिवार साफ-सुथरी साधारण जिंदगी व्यतीत करते हैं. अंकिता ने कहा कि उसके परिवार वालों का पिछले 15 सालों का बैकग्राउंड निकाला जाए और मेरे ऊपर लगाए गए आरोपों से न्याय दिलाया जाए और अभियुक्तों को सजा दिलाने की कृपा करें. अंकिता ने मुख्यमंत्री अखिलेश यादव से प्रार्थना की है कि वे आरोपियों को सजा दिलाएं.

विधायक ने न्यूज़ अटैक के बिरुद्ध दिए तहरीर में लिखा है कि डाक्टर शालू तिवारी कि घटना को न्यूज़ अटैक ने गलत और भ्रामक पेश किया है .
देखे इस वीडियो को और खुद समझे विधायक सही या न्यूज़ अटैक-

अब सवाल उठता है की अगर विधायक पर लगा आरोप गलत था तो विधायक ने किसी मीडिया संस्थान के बिरुद्ध कोई कार्यवाही क्यों नहीं किया .

http://hindi.webdunia.com/regional-hindi-news/uttar-pradesh-rape-scandal-114092500030_1.html
http://www.amarujala.com/lucknow/crime/sanjay-pratap-jaiswal-rape-case

विधानसभा चुनाव से पहले भाजपा को लग सकता है झटका, बगावत पर उतरे कार्यकर्ता  

http://www.jagran.com/search/sanjay-pratap-jaiswal

   (खबर कैसी लगी बताएं जरूर. आप हमें फेसबुक, ट्विटर और जी प्लस पर फॉलो भी कर सकते हैं.)




loading…


इसे भी पढ़े -