You are here

मुलायम के आँखों की आँसू से चौधरी साहब पसीज गये थे -जयंत

लखनऊ .उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में महागठबंधन बनते –बनते टूट गई थी. सत्ताशीन समाजवादी पार्टी- कांग्रेस गठबंधन के बीच से रालोद को अंत में निकाल फेका गया .जिसकी टीस अब भी राष्ट्रीय लोकदल के महासचिव जयंत चौधरी के दिल में है,जो अब खुलकर सामने आ रही है.
मथुरा में जयंत चौधरी ने कहा कि वे पहले गठबंधन में शामिल होना चाहते थे, जयंत ने एक चौकाने वाला खुलाशा भी किया कि गठबंधन में शामिल होने हेतु मुलायम सिंह यादव ने फोन पर इसके लिए रोते हुए गुहार लगाई थी.
सनद रहे उस वक्त समाजवादी पार्टी और परिवार में चल रहा गृह यूद्ध सड़क के साथ –साथ निर्वाचन आयोग में पहुच चुका था ,निर्वाचन आयोग ने समाजवादी पार्टी की जंग में अखिलेश को बिजय दे दी थी परन्तु पारिवारिक जंग पर बिराम नहीं लग पाया .
मथुरा विधानसभा क्षेत्र से रालोद उम्मीदवार अशोक अग्रवाल के पक्ष में चुनाव प्रचार करते हुए कहा रालोद महासचिव जयंत चौधरी ने कहा कि सपा-कांग्रेस गठबंधन ने हम पर लाठी मारी है, लेकिन रालोद कमजोर नहीं हुआ है. बल्कि हम ज्यादा मजबूत हुए हैं,उस लाठी को तोड़ देंगे.अगर आपका दोस्त रोते हुए मदद मांगे तो क्या आप इनकार कर देंगे ? चौधरी साहब ने कुछ भी गलत नहीं किया. चौधरी साहब मुलायम की आँखों की आँसू के आगे पिघल गये और उन्होंने दो मिनट में निर्णय किया की हमें सपा से गठबंधन में चुनाव लड़ना है , क्योंकि मुलायम सिंह यादव फोन पर रो रहे थे और मदद की गुहार लगा रहे थे.
मुख्यमंत्री अखिलेश यादव पर हमला करते हुए जयंत ने कहा कि 600 मीटर मेट्रो चलाना और उसका पूरा प्रचार करना विकास नहीं कहलाता है. अपने ही परिवार के लोगों से लड़ना अखिलेश यादव की आदत हो गई है.

इसे भी पढ़े -