You are here

मोदी के बिरोध में स्वामी चक्रपाणि





लखनऊ. नोटबंदी से देश में मचे हाहाकार के बाद अब प्लास्टिक का नोट नया भूचाल ला सकता है .नरेन्द्र मोदी सरकार द्वारा 500 के प्लास्टिक वाले नोट छापने पर विरोध के सुर तेज होने लगे हैं.
अखिल भारतीय हिन्दू महासभा के अध्यक्ष स्वामी चक्रपाणि ने प्लास्टिक के नोटों का बिरोध करते हुए कहा की प्लास्टिक के नोटों में जानवारों की चर्बी का इस्तेमाल होता है. प्रधानमंत्री मोदी इस बात का विश्वास दिलाएं कि भारत में छपने वाले प्लास्टिक नोट में जानवरों की चर्बी का इस्तेमाल नहीं होगा . प्लास्टिक के नोट में जानवर की चर्बी के कारण ही ब्रिटेन कोर्ट में इसे लेकर विवाद चल रहा है. स्वामी चक्रपाणि ने कहा कि भारत एक धार्मिक देश है. यहां लोग मंदिरों में रुपए दान करते हैं. साधु-संतों के चरणों में समर्पित करते है.
स्वामी ने मोदी सरकार को चेताते हुए कहा कि 1857 में अंग्रेजों के खिलाफ हुई पहली क्रांति चर्बी वाले कारतूस को लेकर ही हुई थी.जिसे मोदी जी फिर से दोहराने की कोशिश न करें. अगर सरकार चर्बी वाले नोट छापने का निर्णय लेती है तो इसका उसे खामियाजा भुगतना पड़ेगा.
उत्तर प्रदेश के चुनाव में स्वामी चक्रपाणि बहुजन समाज पार्टी को समर्थन देने का ऐलान किया है. स्वामी चक्रपाणि ने यह भी कहा है कि मायावती दलित की बेटी हैं लेकिन उन्हें देश की बेटी बनाना है.

इसे भी पढ़े -