You are here

राम मंदिर से जुड़े सवाल पर पत्रकार को मारने दौड़ा इमाम बुखारी

लखनऊ.जामा मस्जिद के शाही इमाम बुखारी लखनऊं में अयोध्या राम मंदिर मामले में प्रेस कॉन्फ्रेंस कर रहे थे. प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान एक पत्रकार उनसे राम मंदिर से जुड़ा सवाल पूछा तो वे आग बबूला हो गए. उन्होंने अपना आपा खो दिया और पत्रकर को मारने के लिए दौड़ पड़े. वहां मौजूद उनके अपने लोगों और दूसरे पत्रकारों ने किसी तरह उनको रोका. शाही इमाम बुखारी ने सवाल पूछने के बाद उस पत्रकार से कहा कि “तुम काफिर हो. किसी खास मकसद से तुम्हें यहां भेजा गया है. तुम्हारे जैसे 36 हजार मेरे हाथों रोजाना कटते हैं”.

पत्रकार ने पूछा हिंदू की मांग तो जायज है तो मुस्लिम खफा क्यों

बता दें उर्दू अखबार दास्ताने-ए-अवध के सम्पादक अब्दुल वहीद चिश्ती ने बुखारी से पूछा कि जब 1528 खसरे में राजा दशरथ का नाम है तो भगवान राम उनके बेटे हैं. बाप की संपत्ति पर हक बेटे का होता है. ऐसे में अयोध्या में राम मंदिर का जो मुद्दा है उस मामले में हिंदू सही कह रहे हैं कि यह रामजन्म भूमि है. इस आधार पर मुस्लिमों को चाहिए कि वे आपसी सहमति के साथ सारी जमीनें मंदिर निर्माण के लिए दे दें. इसी सवाल पर इमाम बुखारी आग बबूला हो गए और पत्रकार को मारने के लिए दौड़ पड़े. वहीद चिश्ती अखिल भारतीय सूफी संत सेवा समिति के अध्यक्ष भी हैं.

इमाम बुखारी के खिलाफ FIR दर्ज

जिस पत्रकार को इमाम बुखारी ने मारने की धमकी दी उन्होंने कहा कि उनकी जान को खतरा है.पीड़ित पत्रकार वहीद चिश्ती ने हजरतगंज थाने में इमाम बुखारी और उनके समर्थकों के खिलाफ मामला दर्ज कराया है. पुलिस ने कहा कि इमाम बुखारी और समर्थकों के खिलाफ  आईपीसी  की धारा 323 और 506 के तहत मामला दर्ज कराया गया है। यह पहली दफा नहीं है जब इमाम बुखारी खुद पर नियंत्रण नहीं रख पाए हैं.

इसे भी पढ़े -