You are here

शिवपाल के महागठबंधन के प्रयासों पर लग रहा पलीता,राज्य मंत्री ललई ने लिया आड़े हाथों

लखनऊ .मुख्यमंत्री अखिलेश यादव और प्रदेश अध्यक्ष शिवपाल यादव में  दूरी कुछ इस कदर बढ़ चुकी है कि दोनों में किसी मुद्दे पर एक होने की  कोई गुंजाइश नहीं दिखती, मुख्यमंत्री पद को लेकर मची किचकिच अभी थमी भी नहीं थी कि अब महागठबंधन पर भी दोनों गुटों में किचकिच शुरू हो चुकी है. मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के सामने ही उनके मंत्री शैलेन्द्र यादव उर्फ ललई ने सार्वजनिक रूप से महागठबंधन के शिवपाल यादव के प्रयासों को जमकर आड़े हाथों लिया.

आज एक कार्यक्रम तो था पूरे प्रदेश में 24 घंटे बिजली शुरू करने को लेकर लेकिन ये सरकारी कार्यक्रम सियासी हो गया. शुरुआत बिजली राज्य मंत्री और अखिलेश के करीबी शैलेन्द्र यादव उर्फ ललई ने करते हुए  अपने 8 मिनट के भाषण में इशारों में ही सही लेकिन शिवपाल यादव और महागठबंधन बनाने के उनके प्रयासों को खूब खरी-खोटी सुनाई.मंत्री शैलेन्द्र उर्फ ललई यादव ने अखिलेश यादव की तुलना कोहिनूर हीरे से की जबकि शिवपाल यादव के महागठबंधन बनाने के प्रयासों को हीरे के सामने पत्थरों को जोड़ने से की. ललई यादव ने कहा आज कुछ लोग कोहिनूर हीरे को दबाने के लिए पत्थरों को जुटाने का प्रयास कर रहे हैं. कोहिनूर कोहिनूर रहेगा, 100 पत्थर इकट्ठे कर दो कोई कोहिनूर की तुलना नहीं कर सकता. ललई ने कहा चाहे कितने भी पत्थर इकट्ठे कर लो कोहिनूर कोहिनूर ही रहेगा. साफ है इशारा शिवपाल यादव के उन कोशिशो की तरफ था जहां वो यूपी में महागठबंधन बनाने के लिए पहल करते नजर आ रहे हैं. शिवपाल यादव कि ये वो पहल है जिसमें अखिलेश यादव की सहमति नहीं दिखती.

राज्य मंत्री शैलेन्द्र उर्फ ललई यादव ने  अखिलेश यादव की तुलना गंगाजल से भी की. उन्होंने अखिलेश यादव की तुलना गंगाजल से करने लिए ज्ञानी जैल सिंह के उस प्रसिद्ध वाक्य को कहा जिसमें उन्होंने कहा था कि गंगा के किनारे रहने वाले लोग गंगा की कीमत नहीं जानते जो हजारों किलोमीटर से आते हैं और गंगाजल ले जाते हैं वो इसकी कीमत जानते हैं, न जाने उत्तर प्रदेश के लोग इस गंगाजल की कीमत कब जानेंगे. साफ मंत्री का ये इशारा मुलायम सिंह की ओर भी हो सकता है.

मंत्री ललई ने बीजेपी के एक बड़े नेता के बयान का हवाला देते हुए कहा कि वो पार्टी जो हमारी विचारधारा के बिल्कुल उलट हैं उसके एक बड़े नेता ने कहा है कि जिस तरह का काम अखिलेश यादव कर रहे हैं वो एक दिन इस देश के सर्वोच्च नेता बनेंगे.

 

इसे भी पढ़े -