You are here

सपा में हो गई टूट,अखिलेश ने जारी किया 167 की नई लिस्ट

 

  पार्टी कार्यसमिति को भंग कर सकते है मुलायम 

अब सुलह की कोई गुंजाइस नहीं – राम गोपाल 




लखनऊ. उत्तर प्रदेश की सत्तासीन समाजवादी पार्टी टूट गई,एक धड़ा अखिलेश के साथ तो दूसरा शिवपाल के साथ है .आज सुबह मुख्यमंत्री अखिलेश यादव अपने समर्थकों और नेताओं के साथ बैठक कर प्रदेश सियासी संकट और अपने द्वारा जारी प्रत्याशीयो की लिस्ट पर चर्चा करने के उपरान्त दूसरी 167 प्रत्याशीयो की नई लिस्ट जारी कर समाजवादी पार्टी और सुप्रीमो मुलायम सिंह यादव को अपना बगावती तेवर दिखाते हुए बताने का प्रयाश किया कि अब हमें कोई झुका नहीं सकता,मुख्यमंत्री अखिलेश के साथ खड़े सपा महासचिव प्रो. राम गोपाल यादव ने कहा की अखिलेश के बिरोधी हमारे बिरोधी हम अखिलेश के साथ है,रहेंगे और चुनाव में हम अखिलेश द्वरा घोषित उम्मीदवारो के पक्ष में प्रचार भी करेंगे. सुलह संबंधी सवाल पर रामगोपाल ने कहा की अब सुलह की कोई गुंजाइस नहीं बची है.

सूत्र बताते है की समाजवादी पार्टी की यह लड़ाई लम्बी चलेगी और यह भी हो सकता है कि अखिलेश यादव समाजवादी पार्टी और चुनाव चिन्ह पर अपना दावा चुनाव आयोग में करे,अगर इसे सही मान लिया जाय तो समाजवादी पार्टी का हस्र अपना दल जैसा हो सकता है,जिससे समाजवादी पार्टी के उम्मीदवार साइकिल की बजाय अलग चुनाव चिन्ह पर चुनाव लड़ने को मजबूर होंगे.


इधर सुबह से ही अखिलेश के बगावती तेवर और भबिष्य की गतिबिधियो के अंजाम से वाखिब सपा सुप्रीमो मुलायम सिंह यादव असमंजस स्थिति में है.मुलायम के आवास पर प्रदेश अध्यक्ष शिवपाल सिंह यादव और सपा प्रमुख बीच मैराथन बैठक हुई करीब 1 घंटे तक चली बैठक में सपा प्रमुख और प्रदेश अध्यक्ष ने टिकट संशोधन पर चर्चा की. इसके साथ ही बैठक में सपा प्रमुख के करीबी भी मौजूद थे.मुलायम ने 31 दिसंबर को सभी घोषित प्रत्याशियों की लखनऊ में बैठक बुलाई है.माना जा रहा है चाचा भतीजे की जंग से आजिज मुलायम कल सभी घोषित प्रत्याशियों की लखनऊ में बैठक के बाद समाजवादी पार्टी की रास्ट्रीय कार्यसमिति को भंग कर सकते है.

 

इसे भी पढ़े -