You are here

योग के बहाने जनता के फूंक डाले 675 करोड़ रुपए -राक्रापा

लखनऊ . योग के बहाने मोदी सरकार ने  जनता के   675 करोड़ रुपए को फूक दिया  है ,वही योग कार्यक्रम में शरीक सैकड़ो बच्चे लापरवाही की वजह से  बीमार हो गए जिन्हें आनन् -फानन में नजदीकी अस्पतालों में भर्ती करवाया गया .

रास्ट्रीय क्रान्ति पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष व मध्यप्रदेश के प्रभारी बृज लाल लोधी  ने आरोप लगाया है कि योग का विरोध नहीं है किन्तु देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र  मोदी खुद की ब्रांडिंग के लिए योग के सहारे जनता के जिस पैसे का दुरुपयोग कर रहे हैं. वह जनता का पैसा था, इस पैसे की बर्वादी का हिसाब प्रधानमंत्री नरेन्द्र  मोदी को देश की जनता को देना होगा.


ग्राम प्रधान ने मनुवाद को दिया करारा जवाब, शादी के कार्ड पर लगाई बाबा साहब की तस्वीर

योग का यह कार्यक्रम पूर्ण रूप से  दिखावा था , जनता के करोड़ो रुपयों  को पानी की तरह बहाया जा रहा है.देश का किसान भुखमरी के कागार पर है ,भाजपाई सरकारे उनकी हत्या पर उतारू है .देश के अन्न दाता की चिंता छोड़ प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी सिर्फ योग  की चिंता कर रहे है.

रास्ट्रीय क्रान्ति पार्टी  का आरोप है कि इस योग कार्यक्रम का 275 करोड़ रुपए से केवल एलईडी से प्रचार किया गया है, बाकी के 400 करोड़ रुपए से अखबारों और टीवी चैनलों को योग के विज्ञापन दिए गए हैं.

मोदी के योग कार्यक्रम में बच्चों पर प्रशासनिक अत्याचार

लखनऊ के रमाबाई आंबेडकर पार्क में योग करने वाले 75 बच्चों की तबियत अचानक  बिगड़ गई,जिन्हें आनन् -फानन में   लोकबन्धु अस्पताल में भर्ती करवाया गया . अंतरराष्ट्रीय योग दिवस के अवसर पर खराब मौसम के बावजूद हजारों की संख्या में लोग प्रधानमंत्री  नरेन्द्र मोदी और मुख्यमंत्री  योगी आदित्यनाथ के साथ योग करने पहुंचे थे परन्तु  सुबह चार बजे से हो रही बारिश की वजह से तामपान काफी गिर गया है.

आदिवासी महिला की न्यूड फ़ोटो वायरल करने पर सीएम योगी के विरुद्ध शिकायत दर्ज

बताया जा रहा है कि बुधवार को होने वाले योग दिवस की तैयारियों की वजह से इनकी नींद नहीं पूरी हो पाई ,बच्चे भोजन भी सही तरीके से नहीं कर पाए जिस कारण ही तापमान में अचानक आई गिरावट व भूख से बिलखने से  करीब 75 बच्चों का स्वास्थ्य बिगड़ गया.


प्रशासन ने बीमार बच्चो को  एंबुलेंस से  लोक अस्पताल बंधु अस्पताल पहुंचाया , जहा  प्राथमिक उपचार के बाद बच्चो को डिस्चार्ज कर दिया गया हालांकि बताया जा रहा है कि तबियत ठीक होने के पहले ही बच्चों को घर भेजने की कोशिश की गई.

 

(खबर कैसी लगी बताएं जरूर. आप हमें फेसबुक, ट्विटर और गूगल प्लस पर फॉलो भी कर सकते हैं.)




loading…


इसे भी पढ़े -