You are here

UP के विश्वविद्यालय बने छेडछाड़ के अड्डे , AU में सत्यम सूर्यवंशी ने की छात्रा से छेड़खानी

इलाहाबाद.‘बहुत हुआ नारी पर वार, अबकी बार भाजपा सरकार’ जुमला देकर केन्द्र और उत्तर प्रदेश में सत्ताशीन भाजपा सरकार में महिलाओं के उत्पीड़न में दिनों दिन बद्दोतरी हो रही है ,महिलाए वर्तमान परिवेश में खुद को असुरक्षित मान रही है ,वही देश के शिक्षा मंदिर पढाई की बजाय छेड़खानी की बजह से ख्यात प्राप्त कर रहे है .

बनारस हिन्दू विश्वविद्यालय और कानपुर आईआईटी में छात्रा के साथ हुई छेड़छाड़ का मामला जहा गर्म है वही देश के विश्वविद्यालयों में छात्राओं के उत्पीड़न के मामले थम नहीं रहे हैं. ताजा मामला इलाहाबाद विश्वविद्यालय से है जहा एक ठाकुर छात्र ने छात्रा के साथ छेड़खानी को अंजाम दिया है .

इलाहाबाद विश्वविद्यालय के चीफ प्रॉक्टर प्रोफेसर रामसेवक दुबे के मुताबिक छेड़छाड़ के प्रकरण में शिकायत मिलने के बाद आरोपी छात्र सत्यम सूर्यवंशी के खिलाफ कार्रवाई करते हुए विश्वविद्यालय से निष्कासित कर दिया गया.

वहीं विश्वविद्यालय प्रशासन ने बताया कि छात्र को फोन कर उसे परिजनों के साथ विश्वविद्यालय के प्रशासनिक अधिकारी के सामने उपस्थित होकर कारण बताने का नोटिस दिया गया था लेकिन वह अभी तक आया नहीं.

चीफ प्रॉक्टर ने बताया कि पीड़ित छात्रा ने छात्र के विरुद्ध छेड़खानी की लिखित शिकायत दर्ज कराई थी , लड़की के शिकायती पत्र के आधार पर छात्र को विश्वविद्यालय से निष्कासित करने का नोटिस जारी कर दिया गया.

चीफ प्रॉक्टर प्रोफेसर रामसेवक ने आगे कहा कि छात्र को नोटिस जारी करने के साथ-साथ उसका नामांकन निरस्त करने की संस्तुति कुलपति को भेजी गई है.स्थानीय पुलिस के अनुसार घटना बीते 26 सितंबर की है. जब पीड़ित लड़की ने छात्र के खिलाफ कर्नलगंज थाने में शिकायत दर्ज कराई थी. सनद रहे बीएचयू घटना के बाद हाल ही में आईआईटी कानपुर में भी लड़कियों के साथ छेड़छाड़ का मामला आ चुका है.

उत्तर प्रदेश के विश्वविद्यालय छात्राओं के साथ छे़ड़छाड़ के मामले में देश भर में नंबर 1 है. हाल ही में यूजीसी ने राष्ट्रीय अपराध रेकॉर्ड ब्यूरो के हवाले से विश्वविद्यालयों में हो रही छेड़खानी पर एक रिपोर्ट पेश की थी. यूजीसी के मुताबिक देश के विश्वविद्यालयों में होने वाली हर चार में से एक छेड़खानी की एक घटना उत्तर प्रदेश के विश्वविद्यालयों से जुड़ी होती है.

इसे भी पढ़े –

(खबर कैसी लगी बताएं जरूर. आप हमें फेसबुक, ट्विटर और गूगल प्लस पर फॉलो भी कर सकते हैं.)




इसे भी पढ़े -

Leave a Comment