You are here

PM मोदी के हनुमान अमित शाह के बेटे की कंपनी में गड़बड़ घोटाला

जय शाह की कंपनी टेम्पल इन्टरप्राइजेज प्राइवेट लिमिटेड का टर्नओवर साल 2015-16 में 16 हजार गुना बढ़ा है.

नई दिल्ली .भारतीय जनता पार्टी के अध्यक्ष अमित शाह के बेटे जय शाह की कंपनी विवादों में घिर गई है. उनकी कंपनी टेम्पल इन्टरप्राइजेज प्राइवेट लिमिटेड का टर्नओवर साल 2015-16 में 16 हजार गुना बढ़ा है. यह बढ़ोत्तरी तब हुई जब केंद्र में नरेंद्र मोदी की नेतृतव वाली  सरकार बनी और उनके पिता अमित शाह भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष बन गए.

 

इससे पहले टेम्पल इन्टरप्राइजेज प्राइवेट लिमिटेड का टर्नओवर न के बराबर था. ‘द वायर’ के मुताबिक जय की कंपनी के टर्नओवर में उछाल की वजह 15.78 करोड़ रुपये का अनसेक्योर्ड लोन है, जिसे राजेश खंडवाल की KIFS फिनांशियल सर्विसेज फर्म ने उपलब्ध कराया है लेकिन हैरत की बात ये है कि लोन देनेवाली KIFS फिनांशियल सर्विसेज ने जिस साल जय की कंपनी को लोन दिया उस साल उसकी कुल आय ही 7 करोड़ रुपये थी.
दूसरी बड़ी बात आरओसी के दस्तावेज से यह सामने आई है कि KIFS फिनांशियल सर्विसेज की एनुअल रिपोर्ट में टेम्पल इन्टरप्राइजेज को दिए गए 15.78 रुपये के अनसेक्योर्ड लोन का कोई जिक्र नहीं है. बता दें कि राजेश खंडवाल भाजपा के राज्यसभा सांसद और रिलायंस इंडस्ट्रीज के टॉप एग्जिक्यूटिव परिमल नथवानी के समधी हैं.

 

जय शाह की कंपनी की बैलेंस शीट में बताया गया है कि मार्च 2013 और मार्च 2014 तक उनकी कंपनी में कुछ खास कामकाज नहीं हुए और इस दौरान कंपनी को क्रमश: कुल 6,230 रुपये और 1,724 रुपये का घाटा हुआ लेकिन जैसे ही केंद्र में नरेंद्र मोदी की सरकार बनी और उनके पिता भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष बने जय शाह की कंपनी के टर्नओवर में आश्चर्यजनक रूप से इजाफा हुआ है.

साल 2014-15 के दौरान उनकी कंपनी को कुल 50,000 रुपये की इनकम पर कुल 18,728 रुपये का लाभ हुआ. मगर 2015-16 के वित्त वर्ष के दौरान जय की कंपनी का टर्नओवर लंबी छलांग लगाते हुए 80.5 करोड़ रुपये का हो गया. यह 2014-15 के मुकाबले 16 हजार गुना ज्यादा है.

जय शाह के वकील ने द वायर को बताया है कि राजेश खंडवाल शाह परिवार के पुराने मित्र हैं.इसके अलावा वो पिछले कई सालों से शाह परिवार के शेयर ब्रोकिंग का कामकाज देख रहे हैं. इसके अलावा उनकी एनबीएफसी फर्म पिछले कई सालों से जय शाह और जीतेंद्र शाह के बिजनेस को लोन देते रहे हैं.

दस्तावेजों से यह भी खुलासा हुआ है कि साल 2015 में राजेश खंडवाल और जय शाह ने मिलकर सत्वा ट्रेडलिंक नाम का लिमिटेड लायबलिटी पार्टनरशिप (एलएलपी)  बनाया था लेकिन जल्द ही उसे बंद कर दिया गया.जय शाह की तरफ से उनके वकील ने द वायर को बताया कि दोनों ने मिलकर एलएलपी खोला था लेकिन बाजार में विपरीत परिस्थितियों की वजह से उसमें कोई कारोबार नहीं हो सका. इसके बाद उसे बंद कर दिया गया और आरओसी के रिकॉर्ड से भी हटवा दिया गया. आरओसी के दस्तावेजों से यह भी खुलासा हुआ है कि जय की कंपनी ने अपनी रिपोर्ट में कहा है कि उसकी आय का 95 फीसदी कृषि उत्पादों की बिक्री से आया है, जबकि उनकी कंपनी का न तो कोई स्टॉक की डिटेल है और न ही इन्वेंटरीज. इसके अलावा उनकी कंपनी की कोई चल-अचल संपत्ति का भी कोई विवरण नहीं है.

टर्नओवर अचानक बढ़ने की जांच की जाए : कांग्रेस

कांग्रेस ने जय अमितभाई शाह की कंपनियों के टर्नओवर में अचानक आए उछाल पर रविवार को भाजपा पर जमकर निशाना साधा। साथ ही पूरे मामले की सीबीआई और प्रवर्तन निदेशालय से जांच कराने की मांग भी की है .पूर्व केंद्रीय मंत्री कपिल सिब्बल ने रविवार को पार्टी मुख्यालय में मीडिया से बातचीत में कहा कि भाजपा अध्यक्ष के बेटे की कंपनी टेंपल एंटरप्राइजेज प्राइवेट लिमिटेड घाटे में चल रही थी, लेकिन 2015-16 में कंपनी का टर्नओवर अचानक 80 करोड़ रुपये हो गया. कंपनी के पास न कोई माल था ना ही कोई स्टॉक था. इस अचानक वृद्धि के बाद कंपनी को अचानक बंद कर दिया गया.

सिब्बल ने कहा कि कांग्रेस या विपक्ष के किसी दूसरे नेता पर दस लाख रुपये की गड़बड़ी का आरोप भी होता है तो प्रवर्तन निदेशालय, सीबीआई और आयकर विभाग उसके पीछे लगा दिया जाता है. हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह इसकी मिसाल हैं, पर इस मामले में किसी तरह की कोई कार्रवाई नहीं की जा रही है. उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री को सीबीआई को मामला सौंपना चाहिए. जांच तय समय के भीतर हो ताकि, सच्चई सामने आ सके.

आप और वाम दलों के निशाने पर शाह : कांग्रेस के अलावा तृणमूल कांग्रेस, आम आदमी पार्टी और वाम दलों ने भी इस मामले पर भाजपा को घेरा. सभी ने एक सुर में मामले की सीबीआई और ईडी से जांच कराने की मांग की। भाकपा नेता डी राजा ने कोर्ट की निगरानी में उच्चस्तरीय एसआईटी जांच की मांग की. आप नेता आशुतोष ने कहा कि जय शाह पर एफआईआर दर्ज होनी चाहिए. उनकी कम्पनी की भी जांच होनी चाहिए.

वही रणजीत सुरजेवाला ने ट्वीट कर सरकार पर तंज कसा –

न्यूज़ अटैक हाशिए पर खड़े समाज की आवाज बनने का एक प्रयास है. हमारी पत्रकारिता को सरकार और कॉरपोरेट दबाव से मुक्त रखने के लिए हमारा आर्थिक सहयोग करें .

न्यूज़ अटैक का पेज लाइक करें –
(खबर कैसी लगी बताएं जरूर. आप हमें फेसबुक, ट्विटर और गूगल प्लस पर फॉलो भी कर सकते हैं.)




loading…


इसे भी पढ़े -

Leave a Comment