You are here

बांदा : पिछड़ों को अपने अधिकारों और सम्मान की प्राप्ति के लिए एकजुट होकर संघर्ष करना होगा -डॉ राम सुमिरन

बाँदा .मोस्ट बैकवर्ड क्लासेज ऑफ़ इंडिया जनपद बांदा के प्रतिनिधियों का एक सम्मेलन बासु मैरिज हाल में आयोजित किया गया. जिसकी अध्यक्षता मंडल प्रभारी डॉ के पी सेन व संचालन रामपाल प्रजापति ने किया .

सम्मेलन को मुख्य अतिथि मोस्ट बायोलॉजी ऑफ इंडिया के राष्ट्रीय अध्यक्ष डॉ राम सुमिरन विश्वकर्मा ने कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए कहा और पिछड़ों को अपने अधिकारों और सम्मान की प्राप्ति के लिए एकजुट होकर संघर्ष करना होगा .

उन्होंने कहा कि मंडल कमीशन की रिपोर्ट के आधार पर जिसमें वरिष्ठ सदस्य माननीय एवं आर नायक ने संतुति और सिफारिश की थी यदि छोटी मछली को बड़ी मछली के साथ रख दिया जाए तो बड़ी मछली छोटी मछली को निकल जाएगी. इसको संज्ञान में रखकर पिछड़े वर्ग को प्राप्त 27 परसेंट के आरक्षण में राष्ट्रीय स्तर पर 15 और 12 का बंटवारा किया जाना चाहिए.

श्री विश्वकर्मा ने कहा कि आबादी के अनुपात में आरक्षण लागू किया जाना चाहिए पिछड़े वर्ग की आबादी 60 प्रतिशत से ज्यादा है और आरक्षण मात्र 27 प्रतिशत है जिसके कारण असमानता की स्थिति उत्पन्न हो रही है उसकी प्रकृति के लिए आरक्षण के प्रतिशत को बड़ाना आवश्यक है. उससे पहले उसमें किसी प्रकार की छेड़छाड़ किया जाना पिछड़े वर्ग के साथ नाइंसाफी होगी.

कार्यक्रम में मुख्य सूत्रधार डॉक्टर अच्छेलाल निषाद रहे .कार्यक्रम में 500 से अधिक कार्यकर्ता साथियो ने सहभागिता किया .

इसे भी पढ़े –

(खबर कैसी लगी बताएं जरूर. आप हमें फेसबुक, ट्विटर और गूगल प्लस पर फॉलो भी कर सकते हैं.)




इसे भी पढ़े -