You are here

उन्नाव:मोदी सरकार बनी आम जनता की दुश्मन,8 महीने से लगातार बन्द है रायबरेली कानपुर पैसेंजर

? गरीब यात्री परेशान सरकार जेब पर डाल रही डाका
?डग्गेमार वाहनों से गंतव्य तक जाने को मजबूर

बीघापुर,उन्नाव। मोदी सरकार लोगों को बुलेट ट्रेन के सफर का सपना दिखा रही है,परन्तु जो रेलगाड़ियाँ वर्षों से आम जनता के लिए पूर्ववर्ती सरकारों द्वारा चलाई गई थीं,उनका संचालन निरस्त कर वर्तमान भाजपा सरकार गरीब जनता कर जेब काटने का कार्य कर रही है।भारतीय रेल के इतिहास में यह पहला मौका है जब किसी सवारी गाड़ी को 8 महीने निरस्त रखने के बाद भी संचालित नहीं किया गया है.

इसे भी पढ़े -संत क़े राम राज्य में हर दिन 14 रेप ,13 हत्याएं, 49 अपहरण हुए हैं, विपक्ष ने मांगा इस्तीफा

ज्ञात हो कि रायबरेली से वाया लालगंज, तकिया,बीघापुर,उन्नाव होते हुए कानपुर सेण्ट्रल को जाने वाली ट्रेन संख्या 54211 जिसे रायबरेली कानपुर पैसेन्जर के नाम से जाना जाता है,का संचालन विगत 11 नवम्बर को कानपुर गंगापुल में टर्फ बदले जाने के कारण बन्द कर दिया गया था।27 दिनों में टर्फ बदलने का कार्य पूर्ण हो जाने के बाद भी इस ट्रेन का संचालन आज 8 महीने हो जाने के बाद भी नहीं हो सका है।इससे आम जनता के मुँह से अब यही आवाज सुनाई दे रही है कि भाजपा के पास केवल जुमलों के अलावा कुछ नहीं बचा है।मोदी जी केवल लच्छेदार भाषण देकर जनता को झूठे सपने दिखा कर उसे ठगने का कार्य कर रहे हैं।इस पैसेन्जर ट्रेन से प्रतिदिन छात्र,छात्राएं,व्यापारी,नौकरीपेषा लोग उन्नाव व कानपुर आते जाते रहे हैं।इसके बन्द हो जाने से अब इस सभी को डग्गेमार वाहनों का सहारा लेना पड़ रहा है।जो यात्रियों की जेब पर भारी पड़ रहा है।टेªन संचालन के विषय में लोगों ने भाजपा सांसद व भाजपा के क्षेत्रीय विधायक व विधान सभा अध्यक्ष, रेल मंत्री तथा डीआरएम से भी कई बार माँग की किन्तु किसी ने आम जनता की परेशानी को अब तक नहीं समझा है।केवल आष्वासनों की मीठी घुट्टी पिला कर सब के सब निकल लेते हैं।

इसे भी पढ़े -बार एसोसिएशन के दबाव में कोर्ट

संचालन के विषय में जब मण्डल रेल प्रबंधक लखनऊ से जानकारी की गई तो उन्होंने बताया कि अभी तक कानपुर रायबरेली पैसेन्जर ट्रेन के पुनः संचालन की कोई जनकारी नहीं है।कब संचालित होगी मैं बता नहीं सकता।रेलवे के डिवीजनों में इस समय लम्बे तकनीकी कार्य चल रहे हैं ऐसे में गाड़ी समय से नहीं चल पाएगी जिस कारण से संचालन बन्द है।अब इनसे पूछा जाए कि क्या केवल इसी एक ट्रेन से सभी प्रभावित हैं तकनीकी कार्य? क्या यही एक ट्रेने समय से नहीं चल पाएगी।जबकि जिस रूट पर यह संचालित थी वह पूरी तरह से खाली ही रहता है।केवल सुबह और शाम को ही इस पर कुल तीन गाड़ियां ही चलती हैं।कुल मिलाकर इस पैसेन्जर ट्रेन को सरकार पूरी तरह से बन्द करने का मन बना चुकी है।

रिपोर्ट:डॉ.मान सिंह

खबर कैसी लगी बताएं जरूर. आप हमें फेसबुक, ट्विटर और गूगल प्लस पर फॉलो भी कर सकते हैं.)




loading…


इसे भी पढ़े -