You are here

गाय को बचाने के चक्कर में गई तीन मुसलमानों की जान

लखनऊ .एक तरफ बीफ के चक्कर में तथाकथित गौ रक्षक निर्दोषों की जान के दुश्मन बने बैठे है ,देश के अधिकांश हिस्सों में बीफ के चक्कर में निर्दोषों की जान चली गई है वही उत्तर प्रदेश के तीन मुसलमानों ने गाय को बचाने के चक्कर में अपनी जान गवा दिया .

खबर के मुताबिक यह दुर्घटना आगरा-लखनऊ एक्सप्रेसवे जनपद उन्नाव में हुई.कार में सवार 48 वर्षीय मोहम्मद असलम, 35 वर्षीय जहांगीर आलम और 45 वर्षीय दिलशाद खान की कार उस समय दुर्घटनाग्रस्त हो गई जब ड्राइवर ने सड़क पर आ गई एक गाय को बचाने के लिए गाड़ी को अचानक से दाएं घुमाया. जहांगीर, दिलशाद और असलम राजस्थान के अजमेर से ख्वाजा मोईनुद्दीन चिश्ती की दरगाह से जियारत करके वापस आ रहे थे.

इसे भी पढ़े -सवर्णो के दंभ को तोड़ पाँचूराम मौर्य बने बार काउंसिल के अध्यक्ष

दुर्घटना में घायल मोहम्मद इमरान ने मीडिया को बताया कि गाड़ी असलम चला रहे थे. एक्सप्रेस वे पर उनकी गाड़ी के सामने एक गाय अचानक आ गई. असलम ने गाय को बचाने के लिए गाड़ी घुमाई जिसके बाद वो डिवाइडर से टकरा गई. खबर के अनुसार सभी मारे गए लोग बिहार के रहने वाले व्यापारी थे.अन्य घायलों का ईलाज कानपूर के अस्पताल में हो रहा है .



उन्नाव की पुलिस अधीक्षक नेहा पाण्डेय ने मीडिया को बताया कि जहांगीर, असलम और दिलशाद की कार गाय को बचाते हुए डिवाइडर से टकरा गई. तीनों मृतक बिहार के गोपालगंज जिले के मारवाड़ी मोहल्ला के रहने वाले थे. कार में छह लोग सवार थे. सभी शनिवार 14 जुलाई को अजमेर पहुंचे थे. बिहार वापसी से पहले वो एक दिन दिल्ली में रुके और अपनी कार की मरम्मत करवाई. दिल्ली से सभी असलम के बेटे का अलीगढ़ स्थित एक पब्लिक स्कूल में दाखिला कराने के लिए गए.

इसे भी पढ़े -सपा प्रवक्ता पंखुड़ी पाठक को समाजवादी विचारधारा की BHU छात्रा नेहा यादव का खुला खत

श्रोत -मीडिया रिपोर्ट

(खबर कैसी लगी बताएं जरूर. आप हमें फेसबुक, ट्विटर और गूगल प्लस पर फॉलो भी कर सकते हैं.)




loading…


इसे भी पढ़े -