You are here

मोदी के कर्जदार मित्र कर रहे मौज, बैंक ने ले ली कर्ज में डूबे एक किसान की जान

नई दिल्ली .देश के सैकड़ो उधोगपति बैंकों के करोड़ो के कर्ज का दबाकर बैठे है ,केंद्र सरकार का बधस्त प्राप्त होने के कारण बैंक इन PM मोदी के मित्र मंडली से वसूली नहीं कर पा रहा है .केंद्र में भाजपा व राज्य में भाजपा सरकार के सत्ता सँभालते ही भाजपाई सांसद व विधायको से बैंक का कर्ज वसूलने में आम आदमी से सख्त पेश आने वाले बैंक अधिकारी गाँधी गिरी कर रहे है .

इसे भी पढ़ेअडानी और अम्बानी को लेकर दलाली कर रहे PM मोदी

आम आदमी के घर धमकाने पहुच जाने वाले बैंक अधिकारी किस तरह ताकतवर के सामने घुटने टेक देते है नजारा देखने को मिला इलाहाबाद शहर उत्तरी से भाजपा विधायक हर्षवर्धन वाजपेई के घर पर , कर्ज वसूलने के लिए पंजाब नेशनल बैंक के अधिकारियों ने गांधीगिरी शुरू कर दी.दर्जनों की संख्या में पहुंचे पीएनबी अधिकारियो ने घंटो विधायक के घर के बाहर डेरा जमाये रखा था . कर्ज से दबे विधायक ने गांधीगिरी के तहत बैंक अधिकारियों को घर में दाखिल नहीं होने दिया तब उक्त बैंक अधिकारी गेट पर ही प्रदर्शन करते रहे. हाथो में, स्लोगन लिखे पोस्टर बैनर भी बैंक अधिकारियो ने थामे रखा. इस गांधीगिरी प्रदर्शन का मकसद था की विधायक हर्ष के पिता पूर्व विधायक अशोक बाजपेई बैंक से कर्ज वसूला जा सके.

इसे भी पढ़ेPM मोदी के साथी बैंकों का करोड़ो दबाकर कर रहे है मौज ,अन्नदाता किसान कर रहा आत्महत्या

ताज़ा मामले के अनुसार  उत्तराखंड के टिहरी जिले में चंबा ब्लॉक के स्वाड़ी गांव में एक किसान ने इन्ही बैंक अधिकारियो के कारण कथित रूप से कीटनाशक पीकर आत्महत्या कर ली .

मृतक किसान के परिजनों का दावा है कि कर्ज चुकाने के लिये बैंक द्वारा किये जा रहे तकाजे से परेशान होकर उसने यह कदम उठाया. 48वर्षीय राजकुमार का शव कल गांव के पास एक खेत में मिला था .जिसे पोस्टमार्टम के लिये जिला अस्पताल भेजा गया है. इस संबंध में टिहरी की जिलाधिकारी सोनिका ने मीडिया को बताया कि मामले की जांच की जा रही है और आत्महत्या के कारणों का जांच के बाद ही पता लगेगा.

हालांकि सात बच्चों के पिता मृतक किसान के परिजनों और ग्रामीणों का कहना है कि बैंक ऋण चुका पाने में असमर्थ होने के कारण उसने आत्महत्या किया है .परिजनों के अनुसार राजकुमार ने जिला सहकारी बैंक से पांच हजार रूपए का कृषि ऋण और उत्तरांचल ग्रामीण बैंक से चालीस हजार का व्यसायिक लोन लिया था और बैंक कर्मी कर्ज वूसली के लिये कुछ दिन पूर्व घर में आए थे जिस कारण राज कुमार परेशान था.

इसे भी पढ़ेकेंद्र और राज्य सरकारों को सुप्रीम कोर्ट की चेतावनी , तथाकथित गोरक्षकों को संरक्षण न दें

टिहरी जिले के कांग्रेसीयो ने मृतक किसान के घर जाकर उन्हें सांत्वना देते हुए  इस मामले को लेकर बड़ा आंदोलन करने का ऐलान किया है. कांग्रेसीयो ने कहा  कि  किसान लगातार आत्महत्या कर रहे हैं ,किन्तु भाजपा सरकार काश्तकारों से वसूली के लिए अभियान चलाए हुए है. परिजनों के अनुसार राज कुमार ने जिला सहकारी बैंक से पांच हजार रूपए का कृषि ऋण और उत्तरांचल ग्रामीण बैंक से 40 हजार का व्यसायिक लोन लिया था.  बैंक कर्मी कर्जा वसूली हेतु  कुछ दिन पूर्व घर पर  आए थे. जिस कारण राज कुमार परेशान था.

(खबर कैसी लगी बताएं जरूर. आप हमें फेसबुक, ट्विटर और गूगल प्लस पर फॉलो भी कर सकते हैं.)




loading…


इसे भी पढ़े -