You are here

योग जैसे कार्यक्रमों पर सरकारी धन, संसाधन के साथ-साथ समय खर्च कर रही हैं मोदी सरकार -मायावती

लखनऊ. भाजपा की केंद्र सरकार में रोजगार के अवसर लगातार कम होते जा रहे हैं,युवा दिनों दिन बेरोजगारी के दल दल में धस रहा किन्तु प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की सरकार बेरोजगारी के इस संकट के दौर में केवल योग जैसे कार्यक्रमों पर सरकारी धन, संसाधन के साथ-साथ समय खर्च कर रही हैं.

उन्नाव:योगी सरकार के ब्लॉक डे सिमटा औपचारिकताओं में

उक्त आरोप बसपा सुप्रीमो मायावती ने लगाते हुए कहा कि ऐसे लोक कार्यक्रमों के लिए भाजपा सरकार को नहीं बल्कि राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ जैसी संस्थाओं को उत्तरदायी बनाया जाना चाहिए. आखिर आरएसएस को मिलने वाली कई तरह की सरकारी सुविधाएं और छूट का लाभ समाज के सही निर्माण के कार्य में करने के बजाय केवल नफरत की बीज बोने की इजाजत क्यों दी जानी चाहिए.भाजपा देश के करोड़ों मेहनतकश बेसहारा गरीबों, मज़दूरों, किसानों और बेरोजगारों को रोजगार दिलाकर उनके परिवार का पेट भरने की असली समस्या का समाधान करने की वास्तविक संवैधानिक जिम्मेदारी नहीं निभा रही है बल्कि केंद्र की मोदी सरकार सरकारी धन-संसाधन का इस्तेमाल पेट भरे लोगों पर ही कर रही है.

लखनऊ :योग दिवस पर केंद्र व प्रदेश के मंत्री बजाएंगे ‘ड्यूटी’

बसपा सुप्रीमो ने कहा कि किसानों की गहराती समस्या और आत्महत्या करने तक की जर्बदस्त मजबूरी वास्तव में रोजगार की भी बहुत बड़ी समस्या है, जो दिन-प्रतिदिन भाजपा की सरकार की गलत नीतियों औरक्रियाकलापों के कारण लगातार गहराती ही जा रही है. इसकी तरफ सरकार का ध्यान आकृष्ठ करने के लिए अब किसान अगले महीने दिल्ली में नीति आयोग का घेराव करने और जन्तर-मन्तर पर धरना देने जा रहे है.

बसपा सुप्रीमो ने कहा कि इसके अलावा अब तो आईटी क्षेत्र में भी बड़े पैमाने पर छंटनी और बेरोजगारी की बड़ी समस्या देश के लोगों को सताने लगी है. यह सब भाजपा सरकार के दौरान रोजगार बिना विकास अर्थात रोजगार सृजन नहीं कर पाने वाले विकास का ही दुष्परिणाम माना जा रहा है.

(खबर कैसी लगी बताएं जरूर. आप हमें फेसबुक, ट्विटर और गूगल प्लस पर फॉलो भी कर सकते हैं.)




loading…


इसे भी पढ़े -

2 Thoughts to “योग जैसे कार्यक्रमों पर सरकारी धन, संसाधन के साथ-साथ समय खर्च कर रही हैं मोदी सरकार -मायावती”

Comments are closed.