You are here

सांसद शरद यादव होंगे JDU से बाहर ,हो सकते है सांसदी से भी बेदखल

नई दिल्ली .जनता दल यू में चल रहा विवाद अंतिम पायदान पर है .बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के खिलाफ बागी तेवर अपना चुके जेडीयू सासद शरद यादव को पार्टी से बाहर का रास्ता दिखाने की प्रक्रिया का शुभारम्भ हो गया है .
जदयू के प्रधान महासचिव केसी त्यागी ने राज्यसभा सांसद शरद यादव को पार्टी और उच्च सदन से निकालने की प्रक्रिया पर काम करना प्रारंभ कर दिया है .के सी त्यागी ने लिखित में शरद यादव को इस बावत एक चिट्ठी सौंपी है.



उपरोक्त चिट्ठी में कहा गया है कि आपने अपनी मर्जी से 27 अगस्त को पटना में आयोजित हो रही आरजेडी की रैली में शामिल होने का फैसला लिया है. इसलिए ऐसा माना जाएगा कि आपने स्वेच्छा से पार्टी को छोड दिया है .प्रधान महासचिव केसी त्यागी ने पत्र में आगे लिखा कि जेडीयू के भाजपा गठबंधन में शामिल होने के बाद से ही आप पार्टी के मापदंडों का उल्लंघन कर रहे हैं, साथ ही आपने हाल में पार्टी की राष्ट्रीय कार्यकारी बैठक में भी हिस्सा नहीं लिया.जेडीयू ने शरद यादव की राज्यसभा की सदस्यता को भी आयोग्य ठहराया है. ऐसा इसलिए है क्योंकि उन्होंने लालू की रैली में शामिल होने की पुष्टि की है.



मीडिया से बातचीत में पार्टी प्रधान महासचिव केसी त्यागी ने कहा कि शरद यादव पटना में रहने के बावजूद पार्टी राष्ट्रीय कार्यकारी बैठक में हिस्सा नहीं लेते है लेकिन अगर वो 27 अगस्त को विरोधी खेमे द्वारा आयोजित पार्टी रैली में भाग लेते हैं तो मान लिया जाएगा कि उन्होंने खुद की मर्जी से पार्टी को अलविदा कह दिया है. शरद यादव की राज्यसभा सदस्यता साल 2022 में खत्म हो रही है.

उन्होंने आगे कहा कि बीते शनिवार को पटना में पार्टी की राष्ट्रीय कार्यकारी बैठक के बाद शरद यादव से कहा गया कि 27 अगस्त को विरोधी पार्टी द्वारा दिए गए न्योते को अस्वीकार कर दें नहीं तो रैली में उनकी भागीदारी पार्टी के सिद्धांतों का एक गंभीर उल्लंघन होगा.

(खबर कैसी लगी बताएं जरूर. आप हमें फेसबुक, ट्विटर और गूगल प्लस पर फॉलो भी कर सकते हैं.)




loading…


इसे भी पढ़े -