You are here

शरद यादव की राज्य सभा से सदस्यता समाप्त किया जाना नरेन्द्र मोदी, अमित शाह एवं नीतिश कुमार की साजिश का परिणाम

नई दिल्ली .जनता दल यू के पूर्व अध्यक्ष शरद यादव व बरिष्ठ नेता अली अनवर की राज्यसभा से सदस्यता समाप्त किए जाने पर जद यू शरद गुट के रास्ट्रीय महासचिव अरुण श्रीवास्तव ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी, अमित भाजपा अध्यक्ष अमित शाह एवं मुख्यमंत्री नीतिश कुमार की साजिश का परिणाम बताया है .

रास्ट्रीय महासचिव अरुण श्रीवास्तव ने पूर्व अध्य्क्ष शरद यादव की राज्य सभा से सदस्यता समाप्त किये जाने के फैसले को आलोकतांत्रिक एवं असंवैधानिक फैसला बताते हुए नरेन्द्र मोदी अमित शाह द्वारा नीतिश कुमार के साथ मिलकर की गई षडयंत्र का परिणाम बताया है. अरुण श्रीवास्तव ने कहा की शरद यादव कल रात जब गुजरात पहुँचे तब रात के 10 :30 बजे उन्हेे दिल्ली से उनकी पत्नी ने सूचित किया की उपराष्ट्रपति कार्यालय से उन्हें राज्य सभा की सदस्यता समाप्त करने की सूचना प्राप्त हुई है।

पूर्व अध्यक्ष शरद यादव की उपस्थिति में आदिवासी नेता छोटू बसावा के हजारो समर्थकों को माँजीपुरा में सम्बोधित करते हुए अरुण श्रीवास्तव ने कहा कि गुजरात के मतदाता शरद यादव की सदस्यता समाप्त करने का विरोध अपने मत पत्र के माध्यम से भा.ज.पा. के खिलाफ मतदान करके प्रदर्शित करेंगे ,भा ज पा का सफाया इस चुनाव में हो जाएगा .

उन्होंने कहा कि नरेन्द्र मोदी, अमित शाह गुजरात चुनाव में आपनी हार की स्थिति से बौखला गए है तथा देश में किसानों मजदूरों की आवाज को संसद में बुलंद करने वाले शरद यादव की सदस्यता समाप्त कर विपक्ष की आवाज को कमजोर करने का प्रयास कर रहे है. लोकतंत्र धर्मनिपेक्षता सामाजिक न्याय, समाजवाद में विश्वास रखने वाले संगठनों और व्यक्तियों से सदस्यता समाप्त करने के फैसले का पुरजोर विरोध करने की अपील की है.

उन्होने कहा कि जिस संसद ने उन्हें सर्वश्रेष्ठ सांसद के तौर पर सम्मानित किया था उस सदन से उनकी सदस्यता इसलिए समाप्त कर दी गई क्योकि वे अपनी ही पार्टी की नीतियों और सिद्धांतों को लागू करने के लिए प्रयासरत थे तथा नीतीश कुमार द्वारा जनादेश के खिलाफ भा ज पा के साथ सरकार बनाने का विरोध कर रहे थे . अरुण श्रीवास्तव ने कहा कि सदस्यता समाप्त होने के फैसले से पार्टी के भीतर लोकतंत्र पूरी तरह से समाप्त हो गया है,जो देश के लोकतंत्र के लिए भी खतरा है, जिसका अन्देशा समाजवादी चिन्तक मधु लिमये ने संसद में इस आशय का कानून परित करते समय किया था.

उन्होंने कहा कि श शरद यादव स्वंय पूर्व में दो बार लोकसभा की सदस्यता से इस्तीफा दे चुके है. एक बार तब जब इंदिरा गाँधी ने आपातकाल के दौरान सदन की अवधि बढ़ाने का फैसला किया था तथा दूसरी बार जब जैन हवाला काण्ड में उनका नाम घसीटा गया था. जो व्यक्ति पहले दो बार स्वंय ही इस्तीफा दे चुका हो उसकी सदस्यता समाप्त किये जाने से उनके मनोबल पर कोई फर्क पड़ने वाला नही है जबकि मनोबल तोड़ने के मकसद से ही उनकी राज्य सभा की सदस्यता समाप्त की गई है.

अरुण श्रीवास्तव ने कहा कि यह सर्वविदित हैं कि केन्द्र सरकार शरद यादव को एन.डी.ए. में शामिल कर केन्द्रीय मंत्री बनाना चाहती थी, लेकिन जब उन्होनें पार्टी के फैसले के मुताबिक विपक्षीय एकता को लेकर तथा लालु यादव , कांग्रेस के साथ जनादेश के अनुसार सरकार चलाने का आग्रह नीतिश कुमार से किया, तब उन्हें पार्टी से निकाल दिया गया. इसके बावजूद भी षड़यंंत्र पूर्वक चुनाव आयोग के माध्यम से शरद यादव के खिलाफ फैसला कराया गया ताकि उनकी सदस्यता समाप्त की जा सके.

सभा को संबोधित करते हुए जनता दल यू के महामंत्री जावेद ने बताया कि देश भर में अक्रोशित कार्यकर्ता नरेन्द्रमोदी ,अमित शाह तथा नीतिश कुमार का पुतला दहन कर रहे है. पार्टी का बहुमत शरद यादव के साथ था और है ,इसके बावजूद चुनाव आयोग के माध्यम से फैसला करा कर षड़यंत्र पूर्वक श्री शरद यादव की राज्य सभा की सदस्यता समाप्त कर दी गई .

आदिवासी नेता छोटू भाई बसावा ने कहा कि गरीबों की आवाज़ को कुचला नहीं जा सकता ,गुजरात में भा ज पा को हराकर हम नरेंद्र मोदी और अमित शाह को सबक सिखाने का काम करेंगे .

छोटू भाई बसावा के समर्थन में उमला से शुरू हुए रोड शो के बाद नेतरंग में रैली को संबोधित करते जनतादल यू के वरिष्ठ समाजवादी नेता शरद यादव ने कहा कि वे नरेंद्र मोदी की एन डी ए सरकार बनने के बाद से ही विपक्षी एकता बनाने के किये प्रयासरत थे तथा बिहार में व्यापक विपक्षी एकता बनाकर उन्होंने सरकार बनाने में सफलता हासिल की थी ,जिसे तोड़ने के लिए मोदी ने नीतीश को साधा लेकिन सांझा विरासत के माध्यम से विरोधी दलों की एकजुटता को कायम करने में मैं जुटा हुआ हूँ ,जिससे घबराकर मेरे खिलाफ सदस्यता समाप्त करने की साजिश की गई है,लेकिन मेरा देश को बचाने का अभियान जारी रहेगा, में जनता और लोकतंत्र की ताकत में भरोसा रखता हूँ ,मेरा सघर्ष लोकतंत्र ,धर्मनिरपेक्षता और समाजवाद की रक्षा के लिए सड़कों पर जारी रहेगा.

न्यूज़ अटैक हाशिए पर खड़े समाज की आवाज बनने का एक प्रयास है. हमारी पत्रकारिता को सरकार और कॉरपोरेट दबाव से मुक्त रखने के लिए हमारा आर्थिक सहयोग करें .

न्यूज़ अटैक का पेज लाइक करें –
(खबर कैसी लगी बताएं जरूर. आप हमें फेसबुक, ट्विटर और गूगल प्लस पर फॉलो भी कर सकते हैं.)






इसे भी पढ़े -

Leave a Comment