You are here

उन्नाव:माननीयों के दबाव ने भ्रष्टाचार बदल गया पुरस्कार में

बीघापुर वि.खण्ड. की ग्राम सभा मगरायर का मामला

बीघापुर,उन्नाव । विकास खण्ड की ग्राम सभा मगरायर में पिछले दिनों मनरेगा कार्यों में दो लाख रु0 से अधिक के हुए घोटाले में दूसरी जांच समिति ने आरोपी ग्राम प्रधान व अन्य को दोश मुक्त कर दिया है। जबकि प्रथम जांच समिति ने दो लाख 42 हजार का गबन पाया था,वहीं दूसरी जांच समिति ने पहली जांच समिति की रिपोर्ट को नकारते हुए 10 हजार रु0 का अधिक कार्य होना पाया है।

बताते चलें कि ग्राम पंचायत मगरायर के संजीव कुमार मिश्र, बबलू पाण्डेय, सिद्ध किशोर कुशवाहा, कपिल तिवारी की षिकायत पर जिला उपायुक्त मनरेगा षेशमणि सिंह व डीआरडीए के सहायक अभियंता इनायत करीम ने रमसगरा तालाब की खुदाई व षिवदीनखेड़ा नाला की सफाई कार्यों में 24 मई की स्थलीय जांच में दो लाख बयालीस हजार रु0 सरकारी धन के दुरुपयोग की पुष्टि की थी। जांच पर निष्पक्षता न होने का आरोप लगाते हुए ग्राम प्रधान गीता दीक्षित के पत्र पर जिला पंचायत अध्यक्षा संगीता सेंगर व विधान सभा अध्यक्ष हृदय नारायण दीक्षित के पुनः जांच कराए जाने की अपेक्षा पत्र पर लोक निर्माण विभाग के अधिषाशी अभियंता ए0पी0 सिंह की अध्यक्षता में जिला उपायुक्त एनआरएलएम निर्मल कुमार द्विवेदी व परियोजना अधिकारी नेडा श्यामधर दुबे की दूसरी जांच समिति बनाई गई। जांच समिति ने 28 अगस्त को स्थलीय जांच की और 15 सितम्बर को जांच रिपोर्ट में देानों कार्यों में भुगतान से 10 हजार रु0 का अधिक कार्य होने की पुष्टि कर रिपोर्ट सौंप दी।

पहली जांच समिति ने शिवदीनखेड़ा नाला सफाई में 1 लाख 40 हजार भुगतान के सापेक्ष में केवल 63 हजार रु0 का कार्य पाया था।वहीं दूसरी जांच समिति ने 1 लाख 44 हजार का कार्य होना पाया ।रमसगरा तालाब की खुदाई के कार्य में पहली जांच समिति ने 3 लाख 61 हजार रु0 के भुगतान में 1 लाख 96 हजार का कार्य पाया, वहीं दूसरी जांच समिति ने 3 लाख 77 हजार के भुगतान में 3 लाख 83 हजार का कार्य होना पाया। इस तरह से हुए भ्रष्टाचार को नकारते हुए ग्राम सभा में हुए कार्यों में भुगतान से 10हजार रु0 कहीं अधिक खर्च होने की बात कह दी है।

मामले में षिकायतकर्ता संजीव कुमार मिश्रा आदि का कहना है कि पहली जांच रिपोर्ट में जहां भ्रश्टाचार का खुलासा किया वहीं दूसरी जांच समिति ने रिपोर्ट में भुगतान से ज्यादा का कार्य कराए जाने की बात कह ग्राम पंचायत को पुरुष्कृत किया है।जांच रिपोर्ट हास्यापद ही नहीं भ्रष्टाचार के आरोपियों को राजनीतिक दबाव में बचाने का प्रयास भी है।

रिपोर्ट: डॉ. मान सिंह
न्यूज़ अटैक का पेज लाइक करें -
(खबर कैसी लगी बताएं जरूर. आप हमें फेसबुक, ट्विटर और गूगल प्लस पर फॉलो भी कर सकते हैं.)




loading...


इसे भी पढ़े -

Leave a Comment