You are here

उन्नाव: बीघापुर तहसील क्षेत्र में सरकारी भूमि पर अवैध कब्जे हटाने को लेकर समाजसेविका मुन्नी देवी बैठीं आमरण अनशन पर

?एस.डी.एम. ने कहा होगी कब्जेदारों पर कार्यवाही

बीघापुर,उन्नाव। तहसील मुख्यालय पर 1 अगस्त से क्षेत्र में सरकारी भूमि व तालाबों पर दबंगों द्वारा किए गए अवैध कब्जे हटवाने को लेकर समाज सेविका मुन्नी देवी क्रमिक अनशन पर बैठी थीं।परन्तु आठ दिन गुजर जाने के बाद भी जब शासन प्रशासन ने उनकी सार्वजनिक हित की मांगों पर को अनदेखा किया तो मंगलवार से वे आमरण अनशन पर बैठ गईं।मुन्नी देवी का कहना है कि जब तक अवैध कब्जे हटा कर कब्जेदारों पर कार्यवही नहीं होती तब तब वे आमरण अनशन से नहीं उठेंगी,इसमें चाहे उनकी जान ही क्यों न चली जाए।




बताते चलें कि तहसील क्षेत्र के पाटन गाँव की पूर्व ग्राम प्रधान व समाजसेविका मुन्नी देवी तहसील क्षेत्र में बड़े पैमाने पर दबंगों द्वारा किए गए सरकारी भूमियों पर अवैध कब्जे हटवाने को लेकर पिछले लगभग 10 वर्षों से संघर्ष कर रही हैं।समय-समय पर उन्होंने इसके लिए धरना भी दिया अनषन भी किया।तत्काल में उन्हें झूठे आश्वासन देकर अधिकारियों की ओर से शान्त कराया जाता रहा लेकिन आज तक अवैध कब्जेदारों पर कोई कार्यवही नहीं हुई।जिससे क्षुब्ध हो कर मुन्नी देवी ने 1 अगस्त से पुनः क्रमिक अनशन प्रारम्भ किया।आठ दिन फिर बीत जाने के बाद जिम्मेदारों के कान में जब जूँ नहीं रेंगी तो उन्होंने मंगलवार को आमरण अनषन करने की घोशणा कर दी। मुन्नी देवी का कहना है कि इस बार जब तक कब्जा किये गए तालाबों, ग्राम समाज की भूमि,अन्य सरकारी भूमि से पूरी तरह से कब्जे नहीं हटाए जाते और कब्जेदारों के खिलाफ कार्यवाही नहीं की जाती तब तक वे आमरण अनशन समाप्त नहीं करेंगी, चाहे उनकी जान की क्यों न चली जाए अब आर पार की होकर ही रहेगी,जब तक बुलडोजर नहीं चलेगा इस बार तब तक मैं षान्त नहीं बैठूंगी।




उन्होंने कहा कि योगी सरकार ने कहा है कि सभी भूमाफियाओं पर कार्यवाही हो और सरकारी जमीनों को खाली कराया जाए,इसके बावजूद भी अधिकारी नहीं सुन रह ये मनमानी पर उतारू हैं।अधिकारी कार्यवही करने के नाम पर झूठे आश्वासन देने का कार्य कर रहे हैं।



वहीं जब इस सम्बन्ध में उपजिलाधिकारी बीघापुर प्रदीप कुमार से बात की गई तो उनका कहना था कि तहसील क्षेत्र में अभी तक लगभग 80 स्थान अवैध कब्जे के रूप में चिन्हित किए गए हैं। कुछ स्थानों पर लोगों ने पक्के निर्माण भी कर लिए हैं,उन पर बेदखली का मुकदमा भी चलाया जाएगा। शीघ्र ही अवैध कब्जे खाली करा लिए जाएंगे।वहीं तहसीलदार चन्द्र शेखर वर्मा से जब पूछा गया कि समाजसेविका की मांग पर अब तक ध्यान क्यों नहीं दिया गया? सिर्फ झूठे आश्वासनों से क्यों बहलाया जा रहा है? तो उनका बेतुका बयान रहा कि कोई झूठा आश्वान नहीं दिया जा रहा है,कार्यवाही की जा रही है।जब उनसे पूछा गया कि कहां कहां अब तक कार्यवाही की गई तो वे बगलें झांकने लगे।

रिपोर्ट: डॉ.मान सिंह

खबर कैसी लगी बताएं जरूर. आप हमें फेसबुक, ट्विटर और गूगल प्लस पर फॉलो भी कर सकते हैं.)




loading…


इसे भी पढ़े -