You are here

भगवाराज में रद्द हो सकती है 2682 मदरसों की मान्यता

लखनऊ . भगवा मुख्यमंत्री के नेतृत्व वाली उत्तर प्रदेश सरकार जल्द ही राज्य के 2682 मदरसों की मान्यता रद्द करने का फैसला ले सकती है. बताया जाता है कि ये वो मदरसे हैं जिन्होंने अभी तक मदरसा पोर्टल पर अपनी डिटेल्स नहीं दी है. यूपी सरकार ने इसकी समय सीमा बढ़ाई थी लेकिन इन मदरसों ने अभी तक डिटेल्स नहीं दी हैं.

सनद रहे कि उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा अगस्त में मदरसों के लिए पोर्टल बनाया गया था, जिसमें सभी मदरसों के लिए निर्देश दिया गया था कि प्रमुख रूप से सम्पूर्ण जानकारी आवश्यक रूप से दें . लेकिन करीब 19,000 मदरसों में से इन 2682 ने डिटेल्स नहीं दी है. सरकार अब डिटेल्स हेतु तारीख को आगे बढ़ाने के पक्ष में नहीं है , जिसके कारण ऐसा कहा जा रहा है कि मदरसों की मान्यता रद्द हो सकती है.

प्रदेश की योगी सरकार ने गत 18 अगस्त को एक वेब पोर्टल जारी करते हुए सभी मदरसों से उस पर अपनी प्रबन्ध समिति के सदस्यों, मदरसे में पढ़ाने वाले शिक्षकों, विद्यार्थियों इत्यादि की जानकारी 15 सितम्बर तक पोर्टल पर उपलब्ध कराने के आदेश दिये थे.

उन्होंने कहा था कि सरकार का मकसद मदरसों में होने वाली अनियमितताओं को रोकना और शिक्षा की गुणवत्ता में सुधार करना है. प्रदेश में मान्यता प्राप्त 19 हजार, आंशिक अनुदान वाले लगभग 4,600 और 100 प्रतिशत अनुदान पाने वाले 560 मदरसे कार्यरत हैं.

मदरसों को सम्पूर्ण डिटेल्स मागने से पूर्व योगी सरकार ने उत्तर प्रदेश के सभी मदरसों पर कड़ी नजर रखने की योजना पर अमल किया था .मुख्यमंत्री ने मदरसों की निगरानी के लिए जीपीएस लगाने की बात कही थी .सरकार का तर्क था कि मदरसों में नकली छात्र और कर्मचारी न छिप सकें इसलिए ऐसा कदम उठाया जा रहा है.मुख्यमंत्री द्वारा मदरसे में जीपीएस से मानिटरिंग किये जाने की योजना पर मुसलमानों ने विरोध जताया था .

न्यूज़ अटैक हाशिए पर खड़े समाज की आवाज बनने का एक प्रयास है. हमारी पत्रकारिता को सरकार और कॉरपोरेट दबाव से मुक्त रखने के लिए हमारा आर्थिक सहयोग करें .

न्यूज़ अटैक का पेज लाइक करें –
(खबर कैसी लगी बताएं जरूर. आप हमें फेसबुक, ट्विटर और गूगल प्लस पर फॉलो भी कर सकते हैं.)




loading…


इसे भी पढ़े -

Leave a Comment