You are here

जदयू का उत्तर प्रदेश मिशन पुनः प्रारंभ




लखनऊ.जनतादल यू उत्तर प्रदेश के विधान सभा चुनाव में अपनी पैर ज़माने की कोशिश में लगा हुआ है .बिहार सीमा से सटे वनारस की पिंडरा विधान सभा में एक बड़ी रैली कर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने उत्तर प्रदेश में अपनी आगाज दर्शा दी थी और तब से प्रदेश की राजधानी समेत अन्य जिलो में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और दल के रास्ट्रीय महासचिव सांसद राम चन्द्र प्रसाद सिंह,रास्ट्रीय सचिव रविन्द्र प्रसाद सिंह समेत विहार के तमाम पार्टी नेता उत्तर प्रदेश में लगातार दस्तक देकर जनता दल यू के जनाधार बढाने हेतु रैली और आम सभा को अंजाम दे रहे है.मिशन उत्तर प्रदेश में बेहतर प्रदर्शन हेतु जनतादल यू ने अजीत सिंह की लोकदल ,पूर्व मंत्री आर के चौधरी की बीएस-४ समेत प्रदेश के अलग –अलग हिस्सों में कार्यरत दर्जनों छोटे दलों से हाथ मिला लिया है.


जदयू के मिशन उत्तर प्रदेश का अगला चरण 23 दिसंबर से पुनः प्रारंभ हो रहा है. पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव और यूपी के प्रभारी सांसद राम चन्द्र प्रसाद सिंह 28 दिसंबर तक वहां कैंप करेंगे.इलाहाबाद, मिर्जापुर, बनारस, चंदौली और कानपुर के इलाके में पार्टी अभियान को गति दी जायेगी.जदयू ने यूपी विधानसभा चुनाव में अपने दम पर उतरने का मन बना लिया है. इसके लिए उम्मीदवार भी तय किये जा रहे हैं. चुनाव की घोषणा हो जाने के बाद उम्मीदवारों के पक्ष में चुनाव प्रचार करने राष्ट्रीय अध्यक्ष और मुख्यमंत्री नीतीश कुमार यूपी जायेंगे.
जनता दल यू का ध्यान बिहार से सटे पूर्वांचल के इलाके पर है. इस इलाके में करीब सौ विधानसभा की सीटें हैं. एक ओर पार्टी का ध्यान यूपी के वोट की ताकत में संपन्न माने जाने वाले पटेल और जाट समेत अतिपिछड़ी जातियों की समूह पर टिकी है. जदयू मुस्लिम वोट बैंक में शेध लगाने हेतु मुस्लिम बाहुल्य इलाके में भी अपनी पैठ जमा रहा है .
जनता दल यू के रास्ट्रीय महासचिव ,उत्तर प्रदेश प्रदेश प्रभारी सांसद राम चन्द्र प्रसाद सिंह का मानना है की शराबबंदी को लेकर तमाम धर्म और वर्ग में नीतीश कुमार की चर्चा है. वे कहते हैं जहां-जहा नीतीश कुमार की सभा हुई है बड़ी संख्या में शराब बिरोधी महिलाओ ,पुरुषो समेत अल्पसंख्यक समाज के लोगों का जुटान हुआ. खासकर युवा मुस्लिम ध्यानपूर्वक उनकी बातों को सुनते हैं. सामाजिक समीकरण को अपने पक्ष में लाने की मुहिम के साथ ही जदयू बिहार में किये गये कार्यों को भी यूपी का चुनावी मुद्दा बनाना चाहता है. जदयू वहां विकास के मुद्दे पर चुनाव लड़ेगा, पार्टी इस बात पर सहमत है.                                    Samsung On7 Pro (Gold)
 




पार्टी अपने एजेंडे में यूपी में बिहार की भांति शराब बंदी,वर्षों से नयी सड़क नहीं बनने, किसानों की समस्या, कानून व्यवस्था जैसी चीजें उठा रहा है .यूपी में जातिवाद इतनी हावी कि पिछले दिनों हुई राज्य लोक सेवा आयोग की 84 सीटों पर हुई बहाली में 56 से अधिक एक ही जाति के लोग चयनित हुए. जदयू इन सबको मुद्दा बना रहा है. शराबबंदी पर महिलाओं की भारी भीड़ से जदयू काफी उत्साहित है. फिरहाल उत्तर प्रदेश चुनाव को लेकर राजनैतिक सरगर्मिया शबाब पर है.सारे राजनैतिक दल अपनी –अपनी जीत के दावे कर रहे है .सत्तासीन समाजवादी पार्टी तमाम घोषणाए कर जहा लोगो को लुभाने का प्रयाश कर रही है.वही बीजेपी मोटर साईकिल बाट कर कार्यकर्तावो के सहारे बिहार की भांति उत्तर प्रदेश में चुनावी विसात की तैयारी में है,बहुजन समाज पार्टी भी दलित वोटो के साथ मुस्लिम वोटो में सेध लगाने की पूरी कोशिस कर रही है .

 

इसे भी पढ़े -