You are here

नरेंद्र मोदी से खफा जगतगुरु शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती

जगतगुरु शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर निशाना साधा हैं। असहिष्णुता मुद्दे पर उन्हें घेरते हुये जगतगुरु ने कहा कि, जब उनकी लंदन यात्रा के दौरान यह मुद्दा उठा तो उन्होंने भारत को गांधी और बुद्ध का देश बता दिया, आखिर मोदी भारत को राम-कृष्ण का देश क्यों नहीं बताते? आखिर बुद्ध ने किया क्या है इस देश के लिए ऐसा जो इसे बुद्ध की धरती कहा जाय ?
जगद्गुरु शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानंद ने कहा कि, बुद्ध ने जाति से परे उठकर अवश्य संदेश दिए थे लेकिन कोई बुद्ध का अनुसरण नहीं करता । भीमराव अंबेडकर ने भी खुद की अपनी ही नई जाति बनाई थी । उन्होंने देश में असहिष्णुता के किसी प्रकार के माहौल से इंकार किया और कहा कि देश में सहिष्णुता है । वहीं राम मन्दिर के बारे में उन्होंने कहा कि, हम इस बात के सर्वथा विरुद्ध है कि कोई एक पार्टी मंदिर बनवाए। भारत के अधिकांश लोग सनातनधर्मी है, उन सबको मिलकर ही मंदिर बनाना चाहिए। कोई धर्म निरपेक्ष सरकार, पार्टी या आरएसएस जैसी सामाजिक संस्था मंदिर नहीं बनवा सकती है। उन्होंने यह भी कहा कि जब कोई राजनीतिक पार्टी हम लोगों के सार्वजनिक और सर्वमान्य मुद्दे पकड़ लेती है तो वह कमजोर हो जाते है।

इसे भी पढ़े -