You are here

नोटबंदी गरीबों से खींचना और अमीरों को सींचना है-राहुल

लखनऊ .प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के 8 नवंबर का निर्णय भ्रष्टाचार के खिलाफ नहीं, किसान और गरीब के खिलाफ है . मैंने मोदी जी से कहा कि किसानों का कर्जा माफ करो, उन्होंने सवाल का जवाब नहीं दिया, एक शब्द नहीं कहा. प्रधानमंत्री की नजर में काला धन 99 प्रतिशत लोगों के पास है. प्रधानमंत्री अमीरों के साथ घूमते हैं. देश का 60 प्रतिशत पैसा देश के 1 प्रतिशत के लोगों को दिया गया. प्रधानमंत्री ने अमीरों का 10 लाख 10 हजार करोड़ कर्जा माफ किया.
उक्त बाते जौनपुर में रैली को संबोधित करते हुए कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी नेनरेन्द्र मोदी के डिजिटल ट्रांजेक्शन पर सवाल उठाते हुए कहा कि सारा कैश काला धन नहीं है. किसान कैश से बीज खरीदे वो काला धन नहीं है. सिर्फ 6 प्रतिशत काला धन कैश के रूप में है. 94 प्रतिशत काला धन जमीन, सोना और विदेश में है. केंद्र सरकार के पास स्विस अकाउंट वालों के नाम हैं. स्विस सरकार ने मोदी सरकार को लिस्ट दी है किन्तु केंद्र सरकार ने स्विस बैंकों का पैसा लाने का कोई प्रयाश नहीं कर रही .मोदी ने बेवकूफ बना दिया. मोदी जी ने 8 नवंबर के बाद 1200 करोड़ की टॉफी माल्या को दी.मोदी सरकार ने ही माल्या को देश से भगा भगा दिया. इन लोगों की वजह से ही मोदी जी की सरकार बनी है .
प्रधानमंत्री मोदी ने किसानों को चोट पहुंचाई. नोटबंदी से कालीन और चमड़े का व्यापार खत्म हो गया . मोदी जी ने गरीबों से बिना पूछे उनका खून निकाल लिया. नोटबंदी कुछ लोग कहते हैं कि आइडिया अच्छा था और प्लानिंग खराब थी, मैं कहता है कि प्लानिंग सही थी, अगर आप समझें. गरीबों का पैसा फंसाने का प्लान था बैंकों में. नोटबंदी से काला धन नहीं आया. ये योजना गरीबों से खींचना और अमीरों को सींचना है.

इसे भी पढ़े -