You are here

पूर्व मंत्री शिवपाल के विरुद्ध जांच

लखनऊ.उत्तर प्रदेश की समाजवादी पार्टी में पुनः चाचा –भतीजे के बीच खुली जंग सामने आ सकती और इस बार वजह होगी चाचा शिवपाल द्वरा सत्ता के दुरप्रयोग संबंधी जांच ,इस शिकायत को दर्ज करवाया आरटीआई एक्टिविस्ट डॉ नूतन ठाकुर ने और जाँच की माग किया है . खबर है कि अखिलेश सरकार की ओर से सपा प्रदेश अध्यिक्ष पूर्व मंत्री शिवपाल सिंह यादव पर लगे सत्ता के दुरुपयोग की शिकायत सम्बन्धी जांच शुरू हो गई है. सरकार ने अपने पूर्व मंत्री शिवपाल सिंह यादव की ओर से प्रदेश सरकार के सूचना और जनसंपर्क विभाग का राजनीतिक दुरुपयोग किए जाने की शिकायत का संज्ञान लिया है.


इस शिकायत पर संज्ञान लेते हुए मुख्यमंत्री कार्यालय की ओर से मुख्यमंत्री के विशेष सचिव अजय कुमार सिंह ने अपने पत्र दिनांक 15 दिसंबर, 2016 द्वारा विशेष सचिव (गोपन) को जांच कर 16 जनवरी, 2017 तक आख्या देने को कहा है.
इस सम्बन्ध में एक्टिविस्ट डॉ नूतन ठाकुर की ओर से भेजी गयी शिकायत की जांच शुरू करवा दी गई है। शिकायत में यह कहा गया है कि बतौर राज्य सरकार के कैबिनेट मंत्री शिवपाल सिंह यादव 18 जून 2016 को फैजाबाद गए थे. जहां उन्होंने एक पुराने सपा नेता श्रीपाल यादव को 20 साल तक पार्टी का झंडा ढ़ोने के एवज में 2 लाख रुपए की आर्थिक सहायता दी थी.




शिवपाल सिंह यादव के द्वारा दी गई इस सहायता को प्रदान करने को लेकर सूचना विभाग ने इस सम्बन्ध में सरकारी प्रेसनोट जारी किया था. जो पूरी तरह गलत होने के साथ ही राजनीतिक हित में सरकारी तंत्र का सीधा दुरुपयोग किया जाना बताया गया था.

अब इस शिकायत पर राज्य सरकार ने बाकायदा जांच शुरू करवा दी है। इस श‍िकायत की सुनवाई के लिए आगे की प्रक्रिया जारी करवा दी गई है। यह बात सामने आने के बाद एक बात तय हो गई है कि चाचा और भतीजे के बीच खटास कम नहीं हो रही है। तभी संबंध‍ित श‍िकायत को खारिज न करके उसके जांच के दायरे में ले लिया गया है।
भाजपा के पूर्व जरनल सेक्रेटरी के पास मिला काला धन

इसे भी पढ़े -