You are here

भाजपाई मुख्यमंत्री के ऊपर चले जुते चप्पल




रांची. झारखंड के भाजपाई मुख्यमंत्री रघुवर दास को आज जूतों और चप्पलों की बौछार का आक्रोश झेलना पड़ा.झारखंड में खरसावां के शहीद स्थल पर आज आयोजित शहीद दिवस समारोह में शहीदों को श्रद्धांजलि देने आए मुख्यमंत्री रघुवर दास को आदिवासी समुदाय के लोगों को बेहद आक्रोश झेलना पड़ा. आदिवासी समुदाय के तल्ख विरोध के बीच मुख्यमंत्री ने शहीदों को श्रद्धांजलि दी.

प्रकाशोत्सव पर्व पर लंगर में नीतीश कुमार ने दी सेवा
इस दौरान आदिवासी समुदाय के लोग मुख्यमंत्री को काला झंडा दिखाते हुए वापस जाओ-वापस जाओ के नारे लगाते रहे. मुख्यमंत्री रघुवर दास के श्रद्धांजलि देकर वापस जाने के समय जूते-चप्पल उछाले गए. आदिवासी समुदाय ने शहीद दिवस समारोह में पुलिस की कड़ी सुरक्षा व्यवस्था को धता कर दिया.

अरविंद केजरीवाल पर जूता फेंका, आप कार्यकर्ताओं ने युवक को पीटा
मुख्यमंत्री के आने की सूचना मिलते ही आदिवासी संगठन के लोग उग्र हो गए और शहीद स्थल पर ही प्रदर्शन करते हुए मुख्यमंत्री वापस जाओ, रघुवर सरकार मुर्दाबाद के नारे लगाने लगे. भीड़ ने सीएनटी (छोटानागपुर टिनेंसी)-एसपीटी (संथाल परगना टिनेंसी) एक्ट संशोधन का विरोध करते हुए नारेबाजी की.
उपायुक्त के. श्रीनिवासन एवं पुलिस अधीक्षक संजीव कुमार ने लोगों को समझाने का काफी प्रयास किया लेकिन आदिवासी समुदाय के लोग अपनी जिद के आगे किसी की न सुनी . जब मुख्यमंत्री श्रद्धांजलि देने शहीद स्थल पहुंचे तो लोगों ने शहीद बेदी का दरवाजा अंदर से बंद कर दिया और पलक झपकते ही बड़ी संख्या में काले झंडे लहराते हुए मुख्यमंत्री और भाजपा के विरोध में नारेबाजी होने लगी. पुलिस-प्रशासन के अधिकारियों के साथ आदिवासी समाज के लोग धक्कामुक्की करते हुए मुख्यमंत्री को लगभग आधे घंटे तक वही रोके रखा.काफी प्रयास के बाद मुख्यमंत्री शहीद बेदी तक पहुंचे और श्रद्धांजलि दी. श्रद्धांजलि देकर जैसे ही मुख्यमंत्री शहीद बेदी से बाहर निकले, आदिवासी समुदाय के लोग सरकार के विरोध में नारेबाजी कर जूते-चप्पल एवं कुर्सियां उछालते हुए काले झंडे दिखाने लगे.मुख्यमंत्री के इस कार्यक्रम में पुलिस प्रशासन पंगु और लाचार बना रहा .



इसे भी पढ़े -