You are here

मायूश होकर बिना पर्चा दाखिल किए लौटे सपा एम्एलए

लखनऊ .उत्तर प्रदेश में सत्ताशीन समाजवादी पार्टी और कांग्रेस के बीच गठबंधन के बाद समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष एवं मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के सामने बड़ी चुनौती अपनी पार्टी में हो रहे संभावित असंतोष को संभालना है. अखिलेश की समाजवादी पार्टी 298 सीटों पर चुनाव लड़ने की वजह से मजबूत महसूस कर रही हो, लेकिन अब तक घोषित प्रत्याशियों के बीच अनिश्चितता का दौर कायम है. प्रत्याशियों के बीच इस बात का डर कायम है वे चुनाव लड़ेंगे या नहीं.बाराबंकी की जैदपुर विधानसभा सीट से सपा प्रत्याशी राम गोपाल रावत का नाम भी आज उसी फेहरिस्त में शामिल हो गया.
बाराबंकी की जैदपुर विधानसभा सीट से मौजूदा विधायक राम गोपाल रावत को अखिलेश यादव ने इस बार भी यहां से सपा का प्रत्याशी बनाया था. राम गोपाल रावत जैदपुर विधानसभा सीट से अपना नामांकन पत्र दाखिल करने तहसील पहुंचे ही थे कि तभी राम गोपाल के पास लखनऊ से फोन आया कि वे अभी अपना नामांकन न करें, इस सीट पर कांग्रेस अपना प्रत्याशी खड़ा करेगी. जिसके बाद उन्होंने अपना पर्चा नहीं भरा.इस घटनाक्रम पर सपा के विधान परिषद् सदस्य राजू यादव का कहना है कि पार्टी हाईकमान जो फैसला करेगी, वह सभी के लिए मान्य होगा.


इसे भी पढ़े -