You are here

मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के करीवी एम्एलसी उदयवीर सिंह सपा से बाहर

अखिलेश जी मुख्यमंत्री हैं और मैं विधायक मुझे पार्टी के बर्खास्तगी का अफसोस नहीं है। मैं मुख्यमंत्री के साथ हूं और रहूंगा- उदयवीर सिंह

 

लखनऊ | समाजवादी पार्टी में बढ़ रहे  बिवाद को  शांत करने हेतु  आज पहल हुई सपा के बुजुर्ग नेता मुलायम सिंह यादव के आवास पर बैठक कर  किसी तरह इस मुद्दे को खत्म करने का प्रयाश कर रहे है इसी बीच पार्टी ने मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के करीवी एम् एल सी उदयवीर सिंह को 6 बर्ष के लिए पार्टी से बाहर का रास्ता दिखा दिया |

समाजवादी पार्टी में मुलायम सिंह यादव के खिलाफ बोलने तथा पत्र लिखने वालों पर पार्टी बेहद गंभीर है। शिवपाल सिंह यादव की अध्यक्षता में आज राज्य कार्यकारिणी की बैठक के बाद इस मामले में अखिलेश यादव के कट्टर  समर्थक विधान परिषद सदस्य उदयवीर सिंह के खिलाफ सख्त कार्रवाई करते हुए पार्टी ने उनको पार्टी से छह वर्ष के लिए निलंबित कर दिया गया है। उदयवीर सिंह को निलंबित करने के बाद समाजवादी पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष शिवपाल सिंह यादव ने कहा कि विवादित चिट्ठी लिखने वालों पर इसी तरह की सख्त कार्रवाई होगी।

आज पार्टी की राज्य कार्यकारिणी की बैठक से पहले ही यह आशंका जताई जा रही थी कि विधान परिषद सदस्य उदयवीर सिंह के खिलाफ कोई सख्त फैसला होगा। पार्टी के विधान परिषद सदस्य उदयवीर सिंह को मुख्यमंत्री अखिलेश यादव का कट्टर  समर्थक माना जाता है।

सनद रहे उदयवीर सिंह ने पार्टी के मुखिया मुलायम सिंह यादव को अखिलेश यादव को पार्टी का राष्ट्रीय अध्यक्ष बनाने के लिए पत्र लिखा था।

आज हुई राज्य कार्यकारिणी की बैठक में  लगभग सभी पदाधिकारियों ने उदयवीर सिंह के खिलाफ कार्रवाई का प्रस्ताव पास किया था। शिवपाल सिंह ने कहा कि मुलायम पर टिप्पणी करने वालों का सख्त कार्रवाई की जाएगी। इस कार्रवाई का प्रस्ताव भी राज्य कार्यकारिणी से पास कराया जाएगा।

उदयवीर ने सपा सुप्रीमो मुलायम सिंह यादव को पत्र लिखकर मुख्यमंत्री अखिलेश यादव को राष्ट्रीय अध्यक्ष बनाकर उन्हें उनका हक देने की मांग की थी।जिसके बाद से पार्टी में एक बार फिर से मतभेद खुलकर सामने आ गया। उदयवीर सिंह के पत्र पर एमएलसी आशु मलिक ने पलटवार करते हुए उनपर चापलूसी करने का आरोप लगाया था।

इस निर्णय के बाद पार्टी के आर्थिक और राजनैतिक प्रस्ताव सर्वसम्मति से पास हुए। बैठक में सपा प्रमुख मुलायम सिंह पर टिप्पणी का मुद्दा छाया रहा। राज्य कार्यकारिणी की बैठक खत्म होने के बाद शिवपाल सिंह यादव ने कहा कि अब सभी लोग पार्टी की रजत जयंती के कार्यक्रम पांच नवंबर की तैयारियों में जुट जाएं। लोग बेकार की बाते कर रहे हैं, पार्टी में कोई बिखराव या कोई विवाद नहीं है। इसके बाद शिवपाल सिंह यादव ने सीधे मुलायम सिंह यादव के घर का रुख किया। वह आज ही उनसे मिलने दोबारा उनके घर गए।

समाजवादी पार्टी से छह वर्ष तक के लिए बर्खास्त विधान परिषद सदस्य उदयवीर सिंह ने कहा कि अखिलेश जी मुख्यमंत्री हैं और मैं विधायक। मुझे पार्टी के बर्खास्तगी का अफसोस नहीं है। मैं मुख्यमंत्री के साथ हूं और रहूंगा|

नेताजी को लिखी गई चिट्ठी पर मैं अब भी कायम हूं। पार्टी में नेताजी तक सही बात नहीं पहुंच रही। मुझे बर्खास्तगी की कार्रवाई पर अफसोस नहीं है।नेताजी को गाली देने वाले पार्टी में है और चिट्ठी वाले बाहर। उम्मीद है मुख्यमंत्री के साथ नेताजी न्याय करेंगे ।

इसे भी पढ़े -