You are here

कलश चमकाएगा आपकी किस्मत, बस इन बातों का रखें ध्यान

कलश स्थापना के बिना पूजा अधूरी मानी जाती है। जिस तरह पूजा करते समय रौली, पुष्प, फल का महत्व है उसी तरह पूजा में कलश की स्थापना का विशेष महत्व है। कलश की स्थापना करने से घर में सुख समृद्धि बढ़ती है और जिस कार्य सिद्धि के लिए पूजा की जा रही है उसमें सफलता मिलती है। आइए जानते हैं पूजा में कलश की स्थापना से पहले किन बातों का ध्यान रखना चाहिए:

कलश का महत्व: पूजा के दौरान कलश को अमृत कलश के समान माना जाता है। समुद्र मंथन के दौरान जो कलश निकाला गया था माना जाता है पूजा में भी उसी अमृत कलश का इस्तेमाल किया जाता है। अलग-अलग पूजा में अलग-अलग तरीके से कलश रखा जाता है। ज्योतिर्विद पं दिवाकर त्रिपाठी पूर्वांचली के अनुसार कलश अखंड दीप और नारियल का भी रखा जाता है। नवरात्रों में नारियल का ही कलश रखने का विधान है। इसके अलावा प्रसिद्धि के लिए अखंड दीप का कलश रखा जाता है।

किस चीज का हो कलश: पूजा में कलश सोने, चांदी, मिट्टी और तांबे का रख सकते हैं। लेकिन ध्यान रखें कि लोहे का कलश पूजा में न रखें।

क्या है विधि: सबसे कलश जहां रखना है वहां मिट्टी की वेदी बनाई जाती है और उस पर हल्दी से अष्टदल बनाया जाता है। उसके ऊपर कलश रखा जाता है। कलश के अंदर पंच पल्लव, जल, दुर्वा, चंदन, पंचामृत, सुपारी, हल्दी, अक्षत, सिक्का, लौंग, इलायची, पान, सुपारी, डाले जाते हैं। इसके बाद कलश के ऊपर रोली से स्वास्तिक बनाया जाता है। कलश के ऊफर आम के पत्ते भी रखने का विधान है। कलश पर नारियल रखने से पहले ऊपर कटोरी में जौ या गेहूं रखे जाते हैं। कलश पर नारियल को लाल कपड़े से लपेट कर रखा जाता है। इसके बाद पंचोपचार से कलश का पूजन किया जाता है।

कलश रखने से होते हैं ये फायदे

1. धार्मिक मान्यताओं की मानें तो कलश में नारियल रखने से घर बीमारी दूर होती हैं। कहा जाता है कि कलश पर नारियल का मूंह ऊपर की तरफ राहु के लिए रखा जाता है। नवरात्रों में कलश में नारियल रखने का विधान है।

2. पूजा में कलश रखने से जिस कार्य सिद्धि के लिए पूजा रखवाई जाती है उसमें जरूर सफलती मिलती है।

3.कलश के बिना पूजा अधूरी मानी जाती है। इसके अलावा इससे कर्ज से भी मुक्ति मिलती है।

4. अखंड धन प्राप्ति के लिए लक्ष्मी कलश इसकी स्थापना की जाती है।

5.नवरात्रों में कलश स्थापना का अलग महत्व है, इसकी स्थापना से मां दुर्गा की असीम कृपा भक्तों पर बनी रहती है और शत्रुओं पर विजय मिलती है।

इसे भी पढ़े -