You are here

पश्चिम बंगाल में कई जगहों पर सेना तैनात,लोगो में अफरा-तफरी





पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने गुरुवार को सचिवालय पर प्रेस कॉन्फ्रेंस कर दनकुनी और पलसित के दो टोल प्लाजा पर सेना की तैनाती पर चिंता जताई. ममता ने कहा कि राज्य सरकार को कोई भी सूचना दिए बगैर इस तरह सेना को तैनात किया जाना एक गंभीर मुद्दा है. ममता बनर्जी ने कहा की इस तरह से सेना की तैनाती बंगाल में ही क्यों.
मुख्यमंत्री ममता ने इसे आपातकाल जैसे हालात बताया. उन्होंने कहा जब देश में इमरजेंसी लगाई जाती है तो केंद्र सरकार राज्यों की कानून-व्यवस्था को अपने हाथ में ले लेता है. राष्ट्रपति इमरजेंसी की घोषणा करते हैं. लेकिन ऐसा कुछ नहीं हुआ है. केंद्र सरकार ने सेना की जीप तैनात करने से पहले राज्य को अपने विश्वास में नहीं लिया है. ममता ने कहा उनका इरादा राजनीतिक, असंवैधानिक, बदले की भावना, अनैतिक, अलोकतांत्रिक है. मैंने निर्णय किया है कि जब तक सेना को इस सचिवालय के सामने से नहीं हटाया जाता है, मैं यहां से नहीं जाउंगी. मैं आज रात यहां ठहरूंगी. क्या इस देश में सेना द्वारा तख्ता पलट किया जा रहा है.
मुख्यशमंत्री ने जानना चाहा क्या यह संघीय व्यवस्था पर हमला है. हम विस्तार में जानकारी चाहते हैं. मुख्य सचिव केंद्र को पत्र लिख रहे हैं. अवसर मिलने पर इस मुद्दे को लेकर मैं राष्ट्रपति से बात करूंगी. क्या देश में अघोषित आपातकाल लागू कर दिया गया है. मुख्यमंत्री ने कहा सेना हमारी संपति है. हमें उन पर गर्व है. हमें बड़ी आपदाओं और सांप्रदायिक तनाव के दौरान सेना की जरूरत होती है. उन्होंने कहा मैं नहीं जानती कि क्या हुआ है. यदि यह अभ्यास है, तब भी राज्य सरकार को सूचित किया जाता है. ममता ने दावा किया कि टोल प्लाजा पर सेना तैनात होने के कारण लोगों में अफरा-तफरी है.

इसे भी पढ़े -