You are here

मानव श्रृंखला ने बनाया इतिहास,नशा मुक्ति हेतु 3 करोंड़ से ज्यादा लोग सड़को पर ,बिपक्षी दल भी शामिल हुए

पटना. शराबबंदी के समर्थन और नशा-मुक्ति के पक्ष में लोगों को जागरूक करने के उद्देश्य से 11 हजार किलोमीटर से ज्यादा लंबी मानव श्रंखला बनाकर बिहार ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के नेतृत्व में  एक बार फिर इतिहास रच कर  देश व दुनिया को नशा-मुक्ति का संदेश दिया.

बिहार के  मुख्यमंत्री नीतीश कुमार का  दावा किया कि 11 हजार किलोमीटर से भी लंबी बनी इस मानव श्रंखला में तीन करोड़ से ज्यादा लोग एक-दूसरे का हाथ पकड़कर शामिल हुए. इस मानव श्रंखला की तस्वीर उपग्रह से ली गई हालांकि कई स्थानों पर मानव श्रंखला में शामिल महिलाएं और बच्चे खड़े-खड़े बेहोश भी हो गए.मानव श्रृखला की शुरुआत पटना के ऐतिहासिक गांधी मैदान में अपराह्न 12.15 बजे शुरू हुई जिसमें जनता दल यू के राष्ट्रीय अध्यक्ष मुख्यमंत्री नीतीश कुमार, राजद सुप्रीमो  लालू प्रसाद, उपमुख्यमंत्री तेजस्वी प्रसाद यादव सहित कई नेता और मंत्री शरीक हुए.

सीवान जिले में भाजपा के नेता कार्यकारिणी समिति की बैठक को बीच में ही रोककर इस मानव श्रृंखला में शामिल हुए. मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने मानव श्रंखला में शामिल होने के बाद पत्रकारों से कहा, इस मानव श्रृंखला में पहले दो करोड़ लोगों के शामिल होने की उम्मीद की गई थी लेकिन सभी जिले से मिल रही सूचना के हिसाब से  11,400 किलोमीटर लंबी मानव श्रृंखला  बनाई गई और इसमें तीन करोड़ लोगों ने हिस्सेदारी की. उन्होंने कहा कि इस सफल आयोजन के लिए सभी लोग बधाई के पात्र है.

जनता दल युनाइटेड के अध्यक्ष नीतीश कुमार ने कहा कि बहुत जगह एक पंक्ति से ज्यादा लोग एकत्र हो गए जिसके कारण  लोगों को निर्धारित पंक्ति के आगे-पीछे भी पंक्ति बनानी पड़ी. मानव श्रृंखला  के पहले दिन की सफलता इस बात का परिचायक है कि बिहार के लोग शराबबंदी और नशा-मुक्ति के पक्षधर हैं. मानव श्रृंखला  के माध्यम से प्रदेश की जनता ने अपनी भावनाओ का प्रकटीकरण किया गया है.नीतीश कुमार ने कहा कि इस अभूतपूर्व और विलक्षण मानव श्रृंखला के प्रति लोगों में काफी उत्साह था.उन्होंने स्वयं गांव-कस्बों में अन्य रूटों पर मानव श्रृंखला  बनाई.शराब बंदी और नशा मुक्ति का  यह अभियान अब रुकने वाला नहीं है.

मानव श्रृखला में महिलाओ की सहभागिता

बिहार राज्य के मुख्य सचिव अंजनी कुमार सिंह ने बताया कि बिहार सरकार ने मानव श्रृंखला  को गिनीज बुक ऑफ वर्ड रिकॉडस  में दर्ज कराने के लिए प्रस्ताव भेजने  का फैसला किया है. मद्य निषेध अभियान की सफलता के लिए बनाई गई 11 हजार किलोमीटर लंबी यह मानव श्रृंखला विश्व की सबसे लंबी मानव श्रंखला है, इसे गिनीज बुक में जरूर दर्ज किया जाएगा. मानव श्रृंखला  की तस्वीर लेने के लिए तीन उपग्रहों और 40 ड्रोनों का उपयोग किया गया.तीन उपग्रहों में एक विदेशी व दो भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) के तकनीकी विशेषज्ञ थे.इसके अलावा चार हेलीकॉप्टरों और हर जिले में ड्रोन के जरिए मानव श्रृंखला की वीडियोग्राफी भी कराई गई.

मानव श्रृखला में बच्चो की सहभागिता

 

राष्ट्रीय जनता दल के अध्यक्ष लालू प्रसाद ने मानव श्रृंखला को पूरी तरह सफल बताते हुए कहा कि पूरा बिहार नशा-मुक्ति के लिए सड़क पर उतर कर नशाबंदी का संकल्प ले रहा है. लालू ने पटना में पत्रकारों से कहा आप सब भी संकल्प लें और बिहार को नशा मुक्त बनाएं. शराबबंदी से समाज को बड़ी राहत मिलेगी और गरीबों का बड़ा कल्याण होने के साथ ही कई सामाजिक बुराइयों से भी लोगों को मुक्ति मिलेगी.

loading…


इसे भी पढ़े -