You are here

ठाकुर पूर्व भाजपा जिलाध्यक्ष ने दलित कार्यकर्ता की नाक तोड़ी

लखनऊ .उत्तर प्रदेश के चंदौली जनपद में भाजपा के पूर्व जिलाध्यक्ष द्वारा पार्टी के लिए समर्पित अनुसूचित जाति के एक युवा कार्यकर्ता  की माँ-बहन करते हुए  पिटाई कर उसका नाक तोड़ दिए जाने के मामले ने तूल पकड़ लिया है . एक ओर पीड़ित कार्यकर्ता घटना की शिकायत ट्वीट कर पार्टी के शीर्षस्थ नेतृत्व को देने के बाद अपने नाक के टूटे हड्डी की मरम्मत कराने के लिए डॉक्टरों के यहाँ चक्कर लगा रहा है वही दूसरी तरफ आरोपी अपने को पाकसाफ साबित करने की जुगत में है.

देश में सुशासन और अनुशासित पार्टी का नगाड़ा पीटने वाली भाजपा में न तो सुशासन दिख रहा है और ना ही पार्टी में अनुशासन. केंद्र और प्रदेश में भाजपा की सरकार क्या बनी भाजपा कार्यकर्ताओं सहित आमजनों की शामत सी  आ गयी है . पार्टी के नेताओं का कार्यकर्ताओं व आमजनों के साथ दुर्व्यवहार चरम पर है, कभी इसी पार्टी के लोग अन्य दलों के ऊपर आरोप लगाया करते थे लेकिन जब इस पार्टी के वरिष्ठ पदाधिकारी ही किसी कार्यकर्त्ता की माँ बहन कर उसकी पिटाई कर नाक तोड़ दें तो इसे क्या कहेंगे. राम-रावण युध्द के दौरान तो लक्ष्मण ने राक्षसी सूर्पनखा की नाक ही काट ली थी लेकिन यहाँ तो भगवान राम के नाम पर अपनी नेतागीरी चमकाने वाले नेता अपनी पार्टी के कार्यकर्ताओं/सेना के जवानों की नाक तोड़ने में लगे हुए हैं.


घटना चंदौली जनपद के मुगलसराय स्थित अग्रवाल सेवा संस्थान में हुई . जब  भाजपा का पूर्व जिलाध्यक्ष राणा प्रताप सिंह ने पार्टी के एक अनुसूचित जाति के युवा कार्यकर्त्ता रंजीत कुमार को सोशल मीडिया पर एक कार्यक्रम की खबर और फ़ोटो पोस्ट करने के लिए कहा जिसके अनुपालन में रंजीत ने फ़ोटो और खबर पोस्ट की. जिसके बाद आरोप है की राणा प्रताप सिंह ने गुस्से में आकर रंजीत से पुछा कि किसके आदेश से पोस्ट किये हो फ़ोटो और खबर, उसने कहा की आपने कहा था और अगर पोस्ट ही कर दिया तो उसमे गुस्सा क्यों हो रहे हैं. इतना कहते ही मारे गुस्से में राणा सिंह ने उसे माँ-बहन की गाली देते हुए मारपीट कर नाक की हड्डी तोड़ दिए.

उक्त घटना को कई पत्रकारों सहित भाजपा  के नेताओं ने भी देखा है.पीड़ित  रंजीत इसकी शिकायत ट्वीट कर पार्टी के शीर्षस्थ नेतृत्व को देने के बाद अपने नाक के टूटे हड्डी की मरम्मत कराने के लिए डॉक्टरों के यहाँ इलाज़ के लिए चक्कर लगा रहा है.

इस बाबत आरोपी पूर्व अध्यक्ष राणा प्रताप सिंह ने कहा कि आरोप गलत है ऐसी कोई बात नहीं है. बताते चलें कि राणा प्रताप सिंह के विरुद्ध यह पहली शिकायत नहीं है. अभी हाल ही में पूर्व मध्य रेलवे के मुगलसराय मंडल के डीआरएम किशोर कुमार के साथ विधायक साधना सिंह से हुई झड़प में भी राणा प्रताप सिंह का वीडियो वायरल हुआ था. भाजपा के शीर्षस्थ नेतृत्व द्वारा अपने पार्टी के कार्यकर्ताओं को चरित्र सुधारने और अनुशासन में रहने की हिदायत को भी ठेंगा दिखाने में जी जान से जुटे है बरिष्ठ भाजपाई .

 

इसे भी पढ़े –

(खबर कैसी लगी बताएं जरूर. आप हमें फेसबुक, ट्विटर और गूगल प्लस पर फॉलो भी कर सकते हैं.)




loading…


इसे भी पढ़े -

Leave a Comment