You are here

कुर्मी महासभा पर उठे सवाल ,हार्दिक के रैली को फ्लाप करने को लेकर भाजपा से हुई थी बड़ी डील

नई दिल्ली .गुजरात में अपने आंदोलनों से सत्ताशीन भाजपा सरकार को कड़ी टक्कर देने वाले पाटीदार अनामत आन्दोलन के नेता हार्दिक पटेल मध्यप्रदेश में भी किसानो के पक्ष में आन्दोलन में उतरेंगे. शिवा जी महाराज कि जयंती के अवसर पर भोपाल पहुचे हार्दिक पटेल ने कहा कि मध्यप्रदेश के साथ ही राजस्थान और छत्तीसगढ़ में भी आने वाले दिनों में होने वाले विधानसभा चुनावों में भाजपा के खिलाफ प्रचार करेंगे.

आरक्षण को लेकर गुजरात में पाटीदारों की लड़ाई लड़ने वाले हार्दिक पटेल खुद भले कम उम्र के कारण चुनाव न लड़ पाएं हों लेकिन उनके समर्थित कई प्रत्याशियों ने भाजपा को टक्टर दी तो गई जगह भाजपा को हार का सामना करना पड़ा. हार्दिक पटेल ने कहा कि मध्यप्रदेश मैं बार-बार आउंगा अगर किसी को कोई दिक्कत है तो रोककर दिखाए. मैं एमपी आऊंगा और किसान व युवाओं से बात भी करूंगा किन्तु हिंदू मुसलमान की राजनीति करने व जातिवाद करने वालो को दिक्कत हो रही है तो होती रहे .

हमें गोरों से तो आजादी मिल गई, लेकिन सत्ता हमने चोरों के हाथों में दे दी है – हार्दिक

हार्दिक ने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह पर हमला बोलते हुए कहा कि मामा ने क्या किया ? यह हम सब जानते हैं. किसान विरोधी नीति हैं. कुपोषण से आदिवासी बच्चों की मौत हो रही है, लेकिन सरकार चुप है. युवाओं को रोजगार देने में सरकार विफल रही है. मंदसौर गोलीकांड के बाद किसानों के लिए सरकार ने कोई कदम नहीं उठाया. जांच के नाम पर लीपापोती चल रही है. मैं इन सब मुद्दों पर प्रदेश की जनता को जागरूक करने का काम करूंगा. मध्यप्रदेश की इस मिट्टी से मुझे मोहब्बत है. हमारी किस्मत देखो कि हमें गोरों से तो आजादी मिल गई, लेकिन सत्ता हमने चोरों के हाथों में दे दी है . मेरी लड़ाई इसके खिलाफ है. व्यापमं घोटाले के बाद 50 युवाओं की मौत हो गई, इनकी भी उचित जांच नहीं हुई.मैं सभी वर्ग के किसानों को साथ लेकर मध्यप्रदेश में बड़े जनआंदोलन की तैयारी कर रहा हूं, धीरे-धीरे देखूंगा, साथ में आने के लिए उन संगठनों से बात करूंगा, जो भाजपा के खिलाफ हैं.

हार्दिक ने सवाल उठाया कि सुप्रीम कोर्ट की सिफारिश के बाद भी 27 प्रतिशत का आरक्षण ओबीसी को क्यों नहीं दिया गया इसे लेकर मुख्यमंत्री से बात करुंगा.

हार्दिक के रैली को फ्लाप करने को लेकर भाजपा से हुई थी बड़ी डील –

रैली स्थल से नदारत भीड़ के बाद से ही कार्यक्रम के आयोजको पर उंगलिया उठनी शुरू हो गई ,कार्यक्रम में सिरकत हेतु आयोजको ने बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ,गुजरात के उप मुख्यमंत्री नितिन पटेल ,पाटीदार नेता हार्दिक पटेल ,मंत्री अनुप्रिया पटेल ,पूर्व मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया समेत अनेक नेताओ का प्रचार प्रसार किया गया था किन्तु हार्दिक के अलावा किसी नेता ने इस कार्यक्रम में शिरकत नहीं किया .

भीड़ न होने से निराश लोगो ने कहा कि हार्दिक देश में इकलौता कुर्मी नौजवान है जिसने भारतवर्ष के तमाम जातियों और उप जातियों में बैठे हुए कुर्मी समाज को एक कर दिया है ,आज तक यह काम हार्दिक के अलावा और दूसरा कोई नहीं कर पाया लेकिन दुख इस बात का है कि मध्यप्रदेश के कुर्मी समाज के तथाकथित कई वर्षों से लदे हुए समाज पर बोझ बने उन लोगों ने भारतवर्ष के कुर्मी समाज के हीरो को बदनाम करने के लिए कि उसका मध्यप्रदेश में अब कोई आकर्षण नहीं रहा ऐसा कृत्य करके कुर्मी समाज के साथ घोर निंदनीय कार्य किया है .इस धोखे के लिए इन लोगों को समाज माफ नहीं करेगा .

लोगो ने कहा कि इन समाज के दलालों ने बड़ी चालाकी से पहले हार्दिक पटेल के नाम पर और समाज के अन्य गणमान्य व्यक्तियों के नाम पर पोस्टर छपवा कर करोड़ों रुपए एकत्र कर लिए.हमारे समाज बंधु तो इतने भोले हैं कि उन्होंने कभी पूछा भी नहीं कि इतने सारे बीआइपी का एक साथ आना संभव कैसे होगा.हमारे समाज के लोगों के इसी भोलेपन का फायदा कुछ समाज के दलाल वर्षों से उठाते आ रहे हैं.उक्त षड्यंत्रकारी लोगों द्वारा भाई हार्दिक पटेल का सौदा BJP सरकार के साथ पहले ही कर लिया गया था. भाई हार्दिक पटेल ने मालवा क्षेत्र में हमारे समाज बंधुओं किसानों की विशाल सभाएं की जिस से BJP बौखलाई हुई थी. कुछ दलबदलू नेता जो समाज की दलाली कर रहे हैं इन्होंने BJP से पैसा लेकर भाई हार्दिक पटेल की छवि पूरे मध्यप्रदेश में खराब करने का षड्यंत्र रचा. पैसो के लालच में समाज को बेच दिया गया .इन दलालों ने 60000000 रुपए में बीजेपी के साथ यह डील की है.

कार्यक्रम स्थल पर उपस्थित कुछ लोगो ने कहा कि विगत वर्षो से महासभा के कार्यक्रमों में केंद्रीय मंत्री अनुप्रिया पटेल बढ़ चढ़ कर भाग ले रही है किन्तु बड़े पैमाने पर हो रहे इस कार्यक्रम से बतौर अतिथि प्रसारित कि गई अनुप्रिया ने दूरी बनाते हुए कार्यक्रम में शिरकत नहीं किया यह भी सोचनीय है .

इसे भी पढ़े -

Leave a Comment