You are here

कानपुर : क्या रेप पीड़िता का साथ देकर प्रतीक्षा कटियार ने जुर्म कर दिया ?

अगर रेप पीड़िता की मदद अपराध है तो करती रहूगी -प्रतीक्षा कटियार

लखनऊ.कानपुर में रेप पीड़िता को न्याय दिलाने की आवाज उठाने के बदले फर्जी मुकदमा झेल रही समाजसेवी प्रतीक्षा कटियार ने एक मार्मिक अपील का आडियो जारी किया है जिसमे प्रतीक्षा ने ऐसा सवाल उठाया है की सुन कर न्याय प्रियजनो के रोंगटे खड़े हो जायेगे,अपने अपराध पर पर्दा डालने में महारथ पुलिस वालो का चरित्र उजागर हो जाएगा ,अपराधियों पर लगाम लगाने में असफल पुलिस निर्दोष नागरिको को किस तरह प्रताड़ित कर रही है यह प्रतीक्षा द्वारा जारी आडियो सुन कर स्पस्ट हो जाएगा .



आडियो में प्रतीक्षा ने अपील किया है कि ,

  • मैंने प्रधानमंत्री के स्वच्छ भारत अभियान के लिए महिलाओं को जागरूक किया क्या ये मेरा अपराध है?
  • मैं स्कूलों में जाकर लड़कियों को आत्मनिर्भर बनने और आत्मरक्षा की ट्रेनिंग देती हूं क्या ये गुनाह है ?
  • मैं सीएम योगी के ही चलाए मजनू अभियान में सहयोगी करती हूँ क्या ये मेरा गुनाह है?
  • एक सामाजिक कार्यकर्ता होने के नाते एक रेप पीड़िता की मदद करने आगे आई क्या मेरा अपराध है ?
  • अगर ऐसा ही होता रहा तो लोग किसी की मदद को आगे कैसे आएंगे ?

मैं महिला सुरक्षा और महिला हितों की बात करने वाले PM  और CM से पूंछना चाहती हूं आखिर इनमें से किस अपराध की सजा देकर मेरा जीवन बर्बाद किया जा रहा है.



लड़कियों और महिलाओं को आत्मनिर्भर बनाने के लिए आत्मरक्षा के पैंतरे और जूडो कराटे की ट्रेनिंग देने वाली 25 साल की समाजसेवी प्रतीक्षा कटियार इस अपील के साथ न्याय की भीख माग रही है . जिसके बिरुद्ध रेप पीड़िता के समर्थन में प्रदर्शन करने की सजा ये मिली कि उस पर गंभीर धाराओं में मुकदमा दर्ज कर लिया गया है.हैरत की बात तो ये है कि महिला डीआईजी सोनिया सिंह ने गिरफ्तारी के आदेश भी दे दिए हैं.

 


वायरल हुए ऑडियो में प्रतीक्षा कटियार अपना दर्द बयां करते हुए कह रही हैं कि कानपुर में महिला उत्पीड़न के ख़िलाफ़ आवाज उठाने की हिम्मत भविष्य में अब कोई एनजीओ या सामाजिक कार्यकर्ता शायद ही जुटा पाएगा. बिडंबना देखिए कानपुर-बर्रा के न्यू जागृति हॉस्पिटल के आईसीयू में किशोरी से रेप के बहुचर्चित मामले में महिलाओं को आत्मरक्षा के गुर सिखाने वाले एनजीओ गर्ल्स फाइटर की संचालिका प्रतीक्षा कटियार को पीड़िता व उसके परिवार का साथ देना मंहगा पड़ गया है. इस मामले में पुलिस ने धरना प्रदर्शन करने व  आरोप में ना सिर्फ प्रतीक्षा पर बल्कि रेप पीड़िता के परिजनों और रिश्तेदारों पर ही गंभीर धाराओं में मामले दर्ज कर लिए हैं.



डीआईजी कानपुर सोनिया सिंह ने संचालिका सहित एनजीओ से जुड़े सदस्यो की गिरफ्तारी के आदेश दे दिए हैं. कानपुर साउथ बर्रा के कर्रही रोड स्थित न्यू जागृति हॉस्पिटल बंद कराने की मांग को लेकर हुए बवाल में पुलिस ने फाइटर गर्ल्स एनजीओ संचालिका प्रतिक्षा कटियार और उसकी सदस्य तान्या गुप्ता समेत 29 नामजद और 200 अज्ञात के खिलाफ एफआईआर दर्ज की थी.

इस मामले में 10 लोगों की पहले ही गिरफ्तारी हो चुकी है. अब ऐसे में सवाल ये उठ रहा है कि सामाजिक कार्यकर्ताओं को गुंडे और उपद्रवियों की श्रेणी में शामिल करना कहां तक जायज ठहराया जा सकता है.

बताया जा रहा है कि पुलिस वर्वरता की शिकार बन रही बेगुनाह प्रतीक्षा कटियार को न्याय दिलाने हेतु कानपुर के समाजसेवी संघठन समेत अन्य राजनैतिक दल एक गुप्त रणनीति पर काम कर रहे है ,पुलिस ने निष्पक्षता अपनाते हुए  फर्जी मुकदमो को यदि वापस नहीं लिया तो कानपुर से शीघ्र ही वृहद् आन्दोलन की चिंगारी का आगाज दिखेगा .

 

(खबर कैसी लगी बताएं जरूर. आप हमें फेसबुक, ट्विटर और गूगल प्लस पर फॉलो भी कर सकते हैं.)




loading...


इसे भी पढ़े -