You are here

छलावा है कर्ज माफी,इससे नहीं हल होगी किसानों की समस्या – नीतीश कुमार


अभिषेक चौधरी

पटना.जनता दल यू के रास्ट्रीय अध्यक्ष व बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार आज केंद्र की मोदी सरकार को लताड़ा कहा की किसान मर रहे है ,किसानो को उपज का उचित मूल्य नहीं मिल पा रहा है जिस कारण अन्न दाता किसान आज सडको पर आन्दोलन को मजबूर है . किसानों की उपज के लिए अपर्याप्त और कम खरीद मूल्य वर्तमान कृषि संकट का आधार है. कर्ज माफी सिर्फ किसानो के साथ छलावा है इस से किसानों और कृषि क्षेत्र की समस्या का समाधान सम्भव नहीं है. जब तक किसानों को उनकी लागत का 50 प्रतिशत मुनाफा जोड़कर फसलों का न्यूनतम समर्थन मूल्य तय नहीं किया जाता है, तब उनकी समस्या का स्थायी हल नहीं हो सकता है.

गरीब कुर्मी के बेटे ने पास किया IAS की परीक्षा ,पिता संग बेचते थे खैनी

पटना में ‘जन संवाद’ कार्यक्रम के बाद पत्रकारों से बातचीत करते हुए मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने मध्य प्रदेश और देश के अन्य हिस्सों में किसानों के प्रदर्शन पर केंद्र सरकार पर हमला बोलते हुए कहा कि कर्ज लेने वाले और कर्ज न लेने वाले दोनों तरह के किसानों की असली समस्या उनकी फसलों का सही मूल्य न मिल पाना है. उन्होंने देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से इस मुद्दे पर पहल करने की मांग करते हुए कहा कि प्रधानमंत्री को चुनाव पूर्व अपने द्वारा और अपनी पार्टी के घोषणा पत्र में किए गए वादों को पूरा करना चाहिए. आज पूरे देश में कृषि क्षेत्र संकट के दौर से गुजर रहा है . फसलों की लागत बढ़ी है जिससे किसान संकट में हैं. कर्ज माफी एक मुद्दा है, लेकिन यह किसानों की सभी समस्याओं का हल नहीं है. असली समस्या यह है कि किसानों को लागत के अनुसार वाजिब कीमत नहीं मिल रही है.

कैबिनेट मंत्री ठाकुर मोती सिंह से ब्लॉक प्रमुख कंचन वर्मा को जान का खतरा !

उन्होंने कहा कि नरेन्द्र मोदी ने 2014 के लोकसभा चुनावों से पहले वादा किया था और इसे अपनी पार्टी के घोषणा पत्र में भी शामिल किया गया था, उसके अनुसार किसानों को उनके लागत मूल्य के ऊपर 50 फीसदी मुनाफा जोड़कर न्यूनतम समर्थन मूल्य दिया जाए. किसानों की समस्याओं का इसी से निदान निकल सकता है.आज फसल बीमा योजना किसानों के लिए कारगर नहीं है. बिहार का आंकड़ा देख लीजिए कि मुआवजे के रूप में कितने का भुगतान किया है. केवल प्रचार-प्रसार से नहीं चलने वाला है. कर्ज माफी होनी चाहिए, लेकिन यह भी तथ्य है कि जिन किसानों ने कर्ज नहीं लिया, वो भी संकट में हैं.

भाजपा विधायक के निशाने पर योगी सरकार ,दलितों के उत्पीड़न पर उठाया सवाल

उन्होंने कहा कि जो भी खेती का काम करता है, वो सब किसान हैं. किसानों की आमदनी बढ़े, इसके लिए केंद्र को पहल करना होगा. सिर्फ कृषि मंत्रालय का नाम बदल देने से किसानों का कल्याण नहीं हो पाएगा.इस मौके पर उन्होंने केंद्रीय कृषि मंत्री राधामोहन सिंह पर भी जमकर चुटकी लेते हुए कहा कि योग करते हुए उनकी तस्वीरें देखकर मुझे हंसी आ गई, कम से कम योग का आसन तो ठीक से करना चाहिए.

(खबर कैसी लगी बताएं जरूर. आप हमें फेसबुक, ट्विटर और गूगल प्लस पर फॉलो भी कर सकते हैं.)

इसे भी पढ़े -

Leave a Comment