You are here

योगी सरकार की तानाशाही के आगे नहीं झुकी सरदार सेना ,किया अनेको जिलो में प्रदर्शन

  • सरदार सेना प्रमुख ,रास्ट्रीय महामंत्री ,रास्ट्रीय मीडिया प्रभारी ,प्रदेश महासचिव ,प्रदेश सचिव ,जिलाध्यक्ष समेत अनेक पदाधिकारियों के यहाँ हुई रात भर पुलिस छापेमारी
  • सरदार सेना प्रमुख डॉ आर एस पटेल ,सुधीर सिंह समेत कई गिरफ्तार ,रिहा

लखनऊ  . सरदार सेना उत्तर प्रदेश में  डीज़ल व पेट्रोल के मूल्य वृद्धि के विरोध में प्रदर्शन करते हुए रास्ट्रपति को संबोधित एक 4 सूत्रीय ज्ञापन जिलाधिकारी को देते हुए तत्काल मूल्य कम करने कि मांग किया है , ज्ञापन में कहा गया है कि कृषि प्रधान देश में कृषि उपकरणों व कृषि में उपयोग होने वाले उर्वरक का मूल्य वृद्धि कर सरकार ने डीजल के रेट में बेतहाशा वृद्धि कर दिया है जिसकी मार देश के किसानो पर पड़ेगी .

रिहाई के बाद फेसबुक लाइब के माध्यम से कार्यकर्ताओ से रूबरू रास्ट्रीय अध्यक्ष 

सरदार सेना ने रास्ट्रपति को सौपे ज्ञापन में मांग किया है कि पेट्रोल एवं डीजल पर अभी तक जीएसटी क्यो नही लागू हुआ ?इसे तत्काल लागू किया जाय,पेट्रोल और डीजल को निजी हाथों में देने के बजाय सरकार द्वारा स्वयं संचालित किया जाय ।जिससे कि देश मे सरकारी रोजगार की संभावनाएं बढ़ सके,किसानों के लिए किसान कार्ड बनाकर डीजल व पेट्रोल सस्ते दर पर मुहैया कराया जाय,वर्तमान डीजल व पेट्रोल के दाम को सरकार द्वारा कम करके नाम मात्र ही टैक्स निर्धारित किया जाय ।

सरदार सेना के नेताओ ने कहा कि कभी महँगाई को डायन कहने वाले देश के मौक़ापरस्त प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की शव यात्रा निकाल विरोध करने की हमारी तैयारी से सरकार हिल गई थी .इस तैयारी की भनक ३० मई को आईबी और अभिसूचना इकाई को लग गई जिसके बाद ख़ुफ़िया सूत्रों ने सरकार को चेताया था ,ख़ुफ़िया रिपोर्ट के बाद केंद्र व राज्य सरकार के हाथ पाँव फूल गये और उन्होंने इस प्रदर्शन को रोकने का प्लान बना लिया सहारा साबित हुई उत्तर प्रदेश की पुलिस और ख़ुफ़िया इकाई ,सूचना मिल रही है कि ३० मई की शाम से ही जिलो के पुलिस कप्तान ने बैठक कर इस कार्यक्रम पर प्रतिबंध लगाते हुए मातहतो को निर्देश दिया कि सरदार सेना का विरोध मार्च कार्यक्रम कही नहीं होना चाहिए ,३० मई की शाम से रात्रि २बजे तक सरदार सेना के पदाधिकारियों/कार्यकर्ताओ के घरों पर पुलिस ने छापेमारी किया और कुछ पदाधिकारियों को कार्यक्रम करने पर हाथ पैर तोड़ने व फ़र्ज़ी धराओं में निरुद्ध करने की धमकी दी .सरकार के इशारे पर 30 मई की रात बनारस में धारा 144 लगा दिया गया था जिससे प्रतीत होता है कि सरकार सरदार सेना द्वारा आयोजित प्रदर्शन से कितना घबराई हुई थी ,धारा 144 लागू होने के बाद भी सरदार सेना के प्रदेश सचिव सुरेश कुमार वर्मा ,विधि क्रांति के प्रदेश महासचिव एडवोकेट मनोज वर्मा ,रास्ट्रीय कार्यसमित सदस्य सुधीर सिंह ,अरविन्द पटेल के नेतृत्व में सैकड़ो खाकी वर्दीधारी पुलिस छावनी में तब्दील कलेक्ट्रेट में जबरदस्त प्रदर्शन किया गया .

नेताओ ने कहा कि भारत जैसे लोकतांत्रिक देश में आपातकाल का माहौल चल रहा है ,सरकार के गलत नीतियों का विरोध करने पर आम लोगो पर लाठी चार्ज कर फर्जी धराए लगाकर प्रताड़ित किया जा रहा है ,सरदार सेना के सभी कार्यकर्ता कल रात हुए पुलिस कार्यवाही का विरोध करते हुए सरकार कि निंदा करते है .

नेताओ ने कहा कि यदि सरकार ने हमारी मांग पर विचार नहीं किया तो तानाशाह सरकार के हठधर्मिता को ख़तम करने हेतु सरदार सेना अन्य सामाजिक संघटनो को साथ लेकर जल्द ही राष्ट्रव्यापी आन्दोलन कि तैयारी करेगी ,जुल्मी सरकार कि ईट से ईट बजाकर ही हम सब शांत बैठेंगे .उक्त कार्यक्रम के तहत आज बनारस ,बस्ती ,कुशीनगर ,गोंडा ,मिर्जापुर ,उन्नाव ,बहराइच ,बलरामपुर ,इलाहाबाद ,जौनपुर ,रायबरेली ,संतकबीरनगर ,लखनऊ ,बाराबंकी ,सीतापुर ,लखीमपुर ,आंबेडकरनगर ,गोरखपुर ,देवरिया ,बदायू ,रीवा ,पन्ना समेत अनेक जिलो में प्रदर्शन हुआ .

न्यूज़ अटैक हाशिए पर खड़े समाज की आवाज बनने का एक प्रयास है. हमारी पत्रकारिता को सरकार और कॉरपोरेट दबाव से मुक्त रखने के लिए हमारा आर्थिक सहयोग करें .

न्यूज़ अटैक का पेज लाइक करें –
(खबर कैसी लगी बताएं जरूर. आप हमें फेसबुक, ट्विटर और गूगल प्लस पर फॉलो भी कर सकते हैं.)






 

इसे भी पढ़े -

Leave a Comment