सरदार पटेल के सपनो का भारत बनाने हेतु हथियार भी उठाना पड़ा तो गुरेज नहीं : डॉ आरएस सिंह पटेल

अभिषेक पटेल

हम सब छत्रपति साहूजी महाराज ,सरदार बल्लभ भाई पटेल ,छत्रपति शिवा जी महाराज ,राजा जयलाल सिंह ,वीरांगना अवंतीबाईलोधी ,वीरांगना ऊदाँ देवी ,राजा बिजली पासी ,महामना रामस्वरूप वर्मा और अत्याचार का प्रतिकार करने वाले महापुरुष ददुआ की संतान है , सरदार साहब के सपनो का भारत बनाने व सरदारवादीयो के अस्मिता की रक्षा हेतु हथियार भी उठाना पड़ा तो संकोच न कर हम हर कुर्बानी को तैयार रहेंगे .

लखनऊ .सरदारवादी विचार धारा के बैनर तले 31 दिसंबर को इलाहाबाद में हो रहे सरदार पटेल के अनुवाईयो की जुटान देश के शोषित ,वंचित,किसान समाज के हित में एक नए क्रांति का आग़ाज़ करेगा .सरदार पटेल के सपनो का भारत बनाने व शोषित ,वंचित समाज के हक़ -हुकुक़ की लड़ाई हेतु सरदारवादी विचारधारा के बैनर तले अब किसान-कमेरा समाज के नौजवानों की फ़ौज देश में बदलाव हेतु प्रारंभ हो रहे महाक्रांति हेतु एक जुट हो रहे है .

सरदारवादी विचारधारा को जन-जन तक पहुँचाने का बीड़ा उठा चुके एक ग़रीब किसान परिवार में जन्म लेकर वंचितो,शोषितों के हक के लिए एक इतिहास बनाने का बीड़ा उठाने हेतु आगे बढ़ रहे डॉक्टर आर एस पटेल ने एक शादी समारोह के दौरान  ‘न्यूज़ अटैक ‘से इस मुद्दे पर बिस्तार से चर्चा किया .

उन्होंने कहा कि देश परिवर्तन मांग रहा है , अब वक़्त आ गया है कि सरदार साहब के सपनो का भारत बनाए जाने हेतु उनकी सोच को मूर्त रूप दिया जाय .सरदार पटेल का सपना था कि भारत दुनिया का सबसे बड़ा किसान उत्पादक देश बने लेकिन आज देश में किसान समाज लोगों का पेट पालने के बाद ख़ुद भुखमरी की कगार पर है ,सरकारे किसान समाज को पिटवाने में मस्त है .देश में रोज़गार घट रहा है जिस कारण बेरोज़गारी तेजी से बढ़ रही है .वर्तमान की सरकारें पूँजीपतियों के हाथ बिक चुकी है ,जिस कारण अमीर तरक्की की दिशा में बढ़ रहा है ,लेकिन ग़रीबों की स्थित बद से बदस्तर होती जा रही है .

श्री पटेल ने कहा कि हमारे प्रेरणाश्रोत सरदार साहब ने एकता पर बल दिया था किंतु वर्तमान राजनेता हमें धर्म ,मँजहब और जातियो में खंडित कर राजनीतिक रोटियाँ सेक रहे हैं,धर्म और जाति का विष रोपित करने के कारण ही सरदार साहब ने राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ पर प्रतिबंध लगाया था , जों आज रास्ट्रवाद का चोला ओढ़ देश को बाटने का काम कर रही है .

उन्होंने कहा कि देश को बदलने हेतु आज यूवाँ सरदारवादी विचारधारा के बैनर तले एक जुट हो रहा है ,हमारे साथियों ने जिस दिन देश के मूलनिवासी 85 प्रतिशत समाज को जगा दिया उस दिन देश में महाक्रांति होगी तब सरदार साहब के सपनो का भारत स्थापित होगा और देश अपने अन्नदाताओ की वजह से पुनः सोने की चिड़िया के रूप में पहचान बनाएगी.

एक सवाल के जबाब में डॉ. आरएस सिंह पटेल ने कहा कि देश कि आज़ादी में महत्वपूर्ण भूमिका क्रांतिवीरों की रही है,जिन्होंने आज़ादी हेतु जान लेने व ख़ुशी- ख़ुशी जान देने में संकोच न करते हुए फासी के फंदे को चूम लिया था,आजादी के रणबाकुरो की क़ुर्बानी के बाद ही हम आज़ाद भारत में सांस ले रहे हैं, सरदारवादी विचारधारा की लड़ाई देश में छिपे ,मौक़ापरस्त ग़द्दारों व सरदार साहब के सपनो का भारत न बनने देने वालों के विरुद्ध है ,माना जा सकता है कि यह लड़ाई आज़ादी की दूसरी लड़ाई होगी .इस लड़ाई में यदि प्राण गवाने पड़े तो सरदारवादियो को संकोच नहीं होगा .

उन्होंने कहा कि हम सब छत्रपति साहूजी महाराज ,सरदार बल्लभ भाई पटेल ,छत्रपति शिवा जी महाराज ,राजा जयलाल सिंह ,वीरांगना अवंतीबाईलोधी ,वीरांगना ऊदाँ देवी ,राजा बिजली पासी ,महामना रामस्वरूप वर्मा और अत्याचार का प्रतिकार करने वाले महापुरुष ददुआ की संतान है , सरदार साहब के सपनो का भारत बनाने व सरदारवादीयो के अस्मिता की रक्षा हेतु हेतु हथियार भी उठाना पड़ा तो संकोच न कर हम हर कुर्बानी को तैयार रहेंगे.

राजनीति से परे होगा सरदारवादी मंच-

सरदारवादी डॉ. आर. एस. सिंह पटेल ने कहा कि ये महाजुटान किसी भी राजनीतिक दल या विचारधारा के तहत ना होकर सिर्फ सरदार पटेल की विचारधारा यानि किसानवादी विचारधारा के बैनर तले होगा. महाजुटान में पूरे देश भर से किसान पुत्रों और सरदार के वंशजों को आमंत्रित किया गया है.

जाने क्या है सरदारवादी विचारधारा-

  • किसान के हितों के बारे में सोचने वाली विचारधारा
  • समाज की एकता-अखंडता के लिए प्रयास करना
  • शक्ति के अभाव में विश्वास किसी काम का नहीं, इसलिए समाज में शक्ति व विश्वास पैदा करें
  • सरदार पटेल जन्मदिवस, परिनिर्वाण दिवस व किसान दिवस भव्य रूप में मनाना
  • सरदार वादी विचारधारी को गांव-गांव में जन-जन तक पहुंचाने के लिए सरदार प्रतिमा की स्थापना
  • प्रत्येक जिले में सरदार शोध संस्थान व सरदार लाइब्रेरी की स्थापना

अपील –

श्री पटेल ने सरदार पटेल के विचारो को मानने वालो से आवाहन किया कि लौहपुरुष सरदार वल्लभ भाई पटेल के परिनिर्वाण दिवस पर इलाहाबाद पहुँच कर सरदारवादीयो द्वारा प्रारम्भ हो रहे आज़ादी की दूसरी लड़ाई को ताकत प्रदान करे .

न्यूज़ अटैक हाशिए पर खड़े समाज की आवाज बनने का एक प्रयास है. हमारी पत्रकारिता को सरकार और कॉरपोरेट दबाव से मुक्त रखने के लिए हमारा आर्थिक सहयोग करें .

न्यूज़ अटैक का पेज लाइक करें –
(खबर कैसी लगी बताएं जरूर. आप हमें फेसबुक, ट्विटर और गूगल प्लस पर फॉलो भी कर सकते हैं.)






इसे भी पढ़े -

Leave a Comment