You are here

वाह….मेक इन इंडिया के सूत्रधार PM मोदी की भाजपा चीन के आगे नतमस्तक

नई दिल्ली . गुजरात विधानसभा चुनाव में कमल खिलाने हेतु भाजपा के शीर्ष नेतृतव द्वारा एड़ी से चोटी का जोर लगाया जा रहा है .इस जीत की तैयारी हेतु सिद्धांतो की बात करने वाली भाजपा अपने सिद्धांत को ताक पर रख कुछ भी समझौता करने को तैयार है .चीनी सामानों की होली जलाने वाले आर एस एस व उसके अनुसांगिक संघठन अब भाजपा के कृत्य से खामोश है ,प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने PM की कुर्सी सँभालने के बाद देश के नागरिको से मार्मिक अपील किया था कि आप देश में बनी ही सामग्री का प्रयोग करे ,जिस सम्बन्ध में प्रधानमंत्री व भाजपा ने “मेक इन इंडिया “का नारा भी दिया था .प्रधानमंत्री के इस आवाहन के बाद हिंदूवादी संघठनो ने पुरे देश में चीनी उत्पादों की होली जलाकर चीन निर्मित सामानों का विरोध किया था किन्तु देश के नागरिको से अपील करने वाले प्रधानमंत्री मोदी व उनकी पार्टी अब गुजरात चुनाव की प्रचार सामग्री हेतु चीन के आगे नतमस्तक है ,उनके मेक इन इण्डिया की पोल एक ट्वीट ने खोल दिया है .

गुजरात के इस विधानसभा चुनाव में चीनी सामान की विरोधी व सिधांतो की बात करने वाली भाजपा ने खुद के चुनाव प्रचार के लिए चीन से सामान मंगवा रही है. कांग्रेस नेता शक्तिसिंह गोहिल ने इस सम्बन्ध में एक सबूत पेश कर भाजपा को इस मुद्दे पर नंगा कर दिया है .

कांग्रेस के प्रवक्ता शक्तिसिंह गोहिल ने अपने ट्विटर अकाउंट से ट्टवीट में उस कस्टम बिल की फोटो भी लगा रखी है, जिसमें भाजपा को चुनाव सामग्री पहुंचाने वाली शार्पलाइन कंपनी के जरिए 94 लाख रुपये कस्टम में बतौर ड्यूटी भुगतान किया गया है. इसके अलावा ऐसी तस्वीरें भी उन्होंने शेयर की हैं जिनमें कस्टम में मंगवाए गए सामान का सैम्पल रखा है.

शक्तिसिंह गोहिल के मुताबिक़ चुनाव सामग्री में भाजपा ने बड़े-बडे बैनर, जिनमें प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी, अमित शाह, विजय रुपाणी और जीतू वाधानी की तस्वीरें हैं, साथ ही भाजपा के चुनाव चिह्न वाला चश्मा, बैज, हेयरपिन जैसी कई चीजें हैं. इन सामग्री के लिए ही कस्टम ड्यूटी 94 लाख रुपये दी गई हैं.

शक्तिसिंह गोहिल ने ट्वीट में लिखा है, शार्पलाइन ने गुजरात चुनाव के लिए भाजपा द्वारा किए गए ऑर्डर को चीन के झेजियांग प्रांत के यिउ जिउरन से आयात किया है. यह एक गंभीर मसला है. हर किसी को चुनाव सामग्री मंगाने का अध‍िकार है, लेकिन चीन ? मेड इन इंडिया क्यों नहीं, भाजपा की कलई खुल गई है.

न्यूज़ अटैक हाशिए पर खड़े समाज की आवाज बनने का एक प्रयास है. हमारी पत्रकारिता को सरकार और कॉरपोरेट दबाव से मुक्त रखने के लिए हमारा आर्थिक सहयोग करें .

न्यूज़ अटैक का पेज लाइक करें –
(खबर कैसी लगी बताएं जरूर. आप हमें फेसबुक, ट्विटर और गूगल प्लस पर फॉलो भी कर सकते हैं.)






इसे भी पढ़े -